Warning: mysqli_query(): (HY000/1021): Disk full (/tmp/#sql-temptable-433-e5da-3a4e1.MAI); waiting for someone to free some space... (errno: 28 "No space left on device") in /home/moradabadpages.com/public_html/wp-includes/wp-db.php on line 2162

Warning: mysqli_query(): (HY000/1021): Disk full (/tmp/#sql-temptable-433-e5da-3a4e2.MAI); waiting for someone to free some space... (errno: 28 "No space left on device") in /home/moradabadpages.com/public_html/wp-includes/wp-db.php on line 2162

Warning: mysqli_query(): (HY000/1021): Disk full (/tmp/#sql-temptable-433-e5da-3a4e3.MAI); waiting for someone to free some space... (errno: 28 "No space left on device") in /home/moradabadpages.com/public_html/wp-includes/wp-db.php on line 2162

Warning: mysqli_query(): (HY000/1021): Disk full (/tmp/#sql-temptable-433-e5da-3a4e4.MAI); waiting for someone to free some space... (errno: 28 "No space left on device") in /home/moradabadpages.com/public_html/wp-includes/wp-db.php on line 2162
पद्म विभूषण से सम्मानित प्रसिद्ध कथक नर्तक पंडित बिरजू महाराज का निधन, दिल्ली स्थित अस्पताल में ली अंतिम सांस - Moradabad News , Moradabad Business

पद्म विभूषण से सम्मानित प्रसिद्ध कथक नर्तक पंडित बिरजू महाराज का निधन, दिल्ली स्थित अस्पताल में ली अंतिम सांस

प्रसिद्ध कथक नर्तक पंडित बिरजू महाराज का निधन हो गया. हार्ट अटैक की वजह से उनके निधन की सूचना मिल रही है. वे 83 साल के थे. उन्हें भारत सरकार ने पद्म विभूषण से सम्मानित किया था.
बिरजू महाराज ने रविवार और सोमवार की दरमियानी रात दिल्ली के साकेत हॉस्पिटल में अंतिम सांस ली. उनके पोते स्वरांश मिश्रा ने सोशल मीडिया पोस्ट के जरिए इस बारे में जानकारी दी. गायक मालिनी अवस्थी और अदनान सामी ने भी सोशल मीडिया पोस्ट के जरिए उन्हें श्रद्धांजलि दी है.
लखनऊ घराने से ताल्लुक रखने वाले बिरजू महाराज का जन्म 4 फरवरी 1938 को लखनऊ में हुआ था. इनका असली नाम पंडित बृजमोहन मिश्र था. ये कथक नर्तक होने के साथ साथ शास्त्रीय गायक भी थे. बिरजू महाराज के पिता और गुरु अच्छन महाराज, चाचा शंभु महाराज और लच्छू महाराज भी प्रसिद्ध कथक नर्तक थे.
गायका मालिनी अवस्थी ने ट्वीट कर लिखा, ‘आज भारतीय संगीत की लय थम गई. सुर मौन हो गए. भाव शून्य हो गए. कथक के सरताज पंडित बिरजू महाराज जी नहीं रहे. लखनऊ की ड्योढ़ी आज सूनी हो गई. कालिकाबिंदादीन जी की गौरवशाली परंपरा की सुगंध विश्व भर में प्रसरित करने वाले महाराज जी अनंत में विलीन हो गए.’