यूपी लोकसभा उपचुनाव: दोनों सीटों पर डिप्टी सीएम सहित योगी आदित्यनाथ भी करेंगे रैलियां और रोड शो


(ममता त्रिपाठी)
लखनऊ. यूपी में लोकसभा उपचुनाव को देखते हुए भाजपा ने अपने नेताओं को दोनों सीटों पर चुनाव प्रचार करने के लिए पूरी ताकत से जुटने को कहा है. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और उनके दोनों उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य और ब्रजेश पाठक रैलियां और रोड शो करेंगे. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ 17-18 जून को रोड शो करेंगे.

मुख्यमंत्री ने वित्त मंत्री सुरेश खन्ना को रामपुर चुनाव प्रचार की कमान सौंपी है साथ ही पश्चिमी यूपी से आने वाले सारे मंत्री रामपुर के उपचुनाव में प्रचार करेंगे. वहीं कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही को आजमगढ़ की कमान देते हुए अवध और पूर्वांचल के सारे मंत्रियों को चुनाव प्रबंधन में लगाया गया है.

किसी भी विवादित बयान से बचने को कहा गया
मुख्यमंत्री ने अपने सभी मंत्रियों को हिदायत दी है कि चुनाव प्रचार के दौरान किसी भी तरह के विवादित बयान से सबको दूर रहना है ताकि विपक्ष को किसी तरह का मुद्दा ना मिल पाए. जनता के बीच केंद्र और राज्य सरकार की उपलब्धियों को लेकर जाना है. विपक्ष के नेता के किसी भी तरह के ट्रैप में नहीं फंसना है, प्रतिक्रिया से बचना है.

हर 15 दिन में सभी मंत्री CM को करेंगे रिपोर्ट
एक वरिष्ठ मंत्री के अनुसार मुख्यमंत्री का मानना है कि मंत्री के किसी भी बयान से जनता में अलग संदेश जाता है और इससे सरकार की छवि पर असर पड़ता है. कानून व्यवस्था के मुद्दे पर योगी सरकार का शुरू से ही सख्त रुख रहा है, फिलहाल कुछ दिनों से कानून व्यवस्था के जो हालात प्रदेश में बने हैं उसको देखते हुए भी योगी ने अपने मंत्रियों को काम सौंपा है कि अपने-अपने क्षेत्र की कानून व्यवस्था की निगरानी सभी मंत्रियों को खुद ही करनी होगी. हर 15 दिन में सभी मंत्रियों को अपने क्षेत्र और प्रभार वाले जिलों की रिपोर्ट मुख्यमंत्री को सौंपनी होगी.

वोटरों का ध्रुवीकरण कराना चाहता है विपक्ष
मुख्यमंत्री के इस निर्देश के पीछे विपक्ष के नेताओं के वो बयान हैं जिसके जरिए विपक्षी दल चुनाव में वोटरों का ध्रुवीकरण कराने में जुटे हैं. आजमगढ़ की सीट पर तो सपा को अपने विपक्षी दलों के साथ साथ भीतरघात का भी सामना करना पड़ रहा है. ऐसी स्थिति में सपा के नेताओं की पूरी कोशिश है कि वोटरों को भ्रमित किया जाए. अखिलेश के लिए चाचा शिवपाल यादव और बसपा सुप्रीमों मायावती दोनों ही परेशानी पैदा कर रहे हैं. मायावती 2022 के विधानसभा नतीजों के बाद से ही मुस्लिमों को लेकर बयान दे रही हैं.

सपा के मुस्लिम वोटों में सेंधमारी करेगी बसपा
गुडडू शाह जमाली के चुनाव मैदान में उतरने के बाद से ही चुनावी पंडित ये मान रहे थे कि बसपा सपा के मुस्लिम वोटों में सेंधमारी करेगी. भाजपा ने दिनेश यादव निरहुआ को टिकट दिया और सपा ने धर्मेंद्र यादव को, इसके बाद यादव वोट बैंक में सेंधमारी तो होना निश्चित है. ऐसी स्थिति में समाजवादी का कोर वोट बैंक जिसके सहारे उसकी जीत सुनिश्चित होती है एम-वाई, उसमें संशय उत्पन्न हो गया है.

Tags: BJP, CM Yogi Adityanath, Lok Sabha Bypolls



Source link

more recommended stories