यूपी: कर्ज में डूबे भांजे ने यह धमकी देकर मामा से मांगी 20 लाख की फिरौती, जानें क्या हुआ अंजाम


गोरखपुर: उत्तर प्रदेश के गोरखपुर में सरकारी कर्मचारी से 20 लाख रंगदारी मांगने के मामले का पुलिस ने खुलासा किया है. हैरानी की बात यह है कि व्यापार में घाटे और उधारी को चुकाने की खातिर सरकारी कर्मचारी के सगे भांजे ने ही रंगदारी मांगने की साजिश रची थी. पुलिस ने आरोपी भांजे समेत तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया है. इनके पास से वारदात में इस्तेमाल किए गए मोबाइल फोन को भी बरामद किया गया है.

मामले का खुलासा करते हुए एसएसपी डॉ. गौरव ग्रोवर ने बताया है कि चिलुआताल इलाके के बरगदवा स्थित बसंतकुंज अपार्टमेंट निवासी संजय कुमार को फोन कर उनकी बेटी के अपहरण की धमकी देने और 20 लाख के फिरौती मांगने का मामला सामने आया था. घटना बीते 22 जुलाई 2022 की है. इस मामले में पुलिस ने अज्ञात के खिलाफ 24 जुलाई 2022 को केस दर्ज किया. सोमवार को पुलिस ने मुख्य आरोपी शिवम सिंह और उसके दो साथियों अरुण और कपिल कुमार को अरेस्ट कर लिया. पुलिस ने तीनों को मुखबिर की सूचना पर नकहा ओवरब्रिज के पास से पकड़ा है. तीनों को कोर्ट में पेश कर पुलिस ने जेल भिजवा दिया है.

एसएसपी डॉ गौरव ग्रोवर ने बताया कि संजय कुमार सरकारी कर्मचारी हैं. वह यूपी राज्य निर्माण सहकारी संघ लिमिटेड में लेखा सहायक के पद पर तैनात हैं. बीते 22 जुलाई 2022 को उनके मोबाइल पर एक अंजान नंबर से फोन आया. कॉल करने वाले ने संजय को उनकी बेटे के अपहरण करने की धमकी दी और 20 लाख की फिरौती मांग ली, जिसके बाद पुलिस ने केस दर्ज किया.

एसएसपी ने बताया कि जांच में सामने आया कि बिजनौर का रहने वाला मुख्य आरोपी शिवम सिंह वादी संजय कुमार का भांजा है. उस पर लाखों का कर्ज हो गया था, जिसके बाद कर्ज चुकाने के लिए उसने अपने साथियों बिजनौर के चांदपुर थाने के घनसोलपुर निवासी अरुण और हीमपुर थाने के हरिनगर निवासी कपिल के साथ मिलकर अपने मामा संजय को फोन किया. उन्हें अपनी ही ममेरी बहन के अपहरण की धमकी देकर 20 लाख की फिरौती मांगी थी. फिरौती न देने पर किडनैप करने की धमकी दी थी.

Tags: Gorakhpur news, Uttar pradesh news



Source link

more recommended stories