यूक्रेन से लौटे MBBS के छात्रों से मुलाकात कर बोले अखिलेश- युवाओं के भविष्य की रक्षा करे सरकार

फिर चला योगी का बुलडोजर, अब पूर्व विधायक रोशन लाल वर्मा की अवैध निर्माण पर हुई कार्रवाई


इटावा. युद्धग्रस्त यूक्रेन में एमबीबीएस की पढ़ाई करने वाले छात्रों छात्राओं ने सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव से मुलाकात की. इसके बाद सपा प्रमुख ने कहा कि युद्धग्रस्त यूक्रेन से मेडिकल की पढ़ाई बीच में छोड़कर आए हुए स्टूडेंट्स की इस मांग को सरकार तुरंत माने कि उन्हें यहां के मेडिकल कालेज में प्रैक्टिकल क्लासेज करने की अनुमति दी जाए. बाकी पढ़ाई वे ऑनलाइन कर लेंगे. उन्होंने कहा कि 40 मेडिकल कॉलेज का दावा करने वाले, युवाओं के भविष्य की रक्षा करें.

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से मिलने वाले एमबीबीएस छात्र छात्राओं ने यह मांग रखी कि उनकी पढ़ाई युद्ध के कारण यूक्रेन में अवरुद्ध हो गई है, जिसको पूरा कराने के लिए केंद्र सरकार पहल करे. इस पहल में आप अपने स्तर पर भूमिका अदा करें. इससे पहले इन सभी छात्र छात्राओं ने इटावा के जिलाधिकारी से भी मुलाकात करके अपनी बात रखी थी.

सभी मेडिकल छात्र छात्राओं ने अखिलेश से मांग करते हुए कहा कि उनकी अधूरी पढ़ाई यूपी के किसी भी मेडिकल इंस्टिट्यूट में पूरी करवाई जाए, जिससे उनका भविष्य खराब होने से बच सके. छात्रों ने कहा कि उनकी यूक्रेन की यूनिवर्सिटी में बात हो रही है, लेकिन वहां के हालात ठीक नहीं है. खराब हालात के बीच वे लोग भी यूक्रेन जाना नहीं चाहते हैं.

रूस और यूक्रेन की जंग में भारतीय छात्र-छात्राओं को उनका भविष्य अंधकार में दिखने लगा है. भले ही वह युद्ध क्षेत्र से निकलकर अपने घर सुरक्षित लौट आए हैं, लेकिन अब उन्हें भविष्य की चिंता सता रही है. उन्होंने कहा कि उनकी पढ़ाई की व्यवस्था यूपी के ही किसी कॉलेज में कराई जाए, जिससे उनकी अधूरी पढ़ाई पूरी हो सके.

यूक्रेन से लौटी छात्रा तेजस्विता यादव का कहना है कि सभी छात्र घर वापस तो आ गए, लेकिन उनकी उम्मीदें अधूरी रह गई हैं. उन्होंने कहा कि अगर वह देश में ही दोबारा पढ़ाई शुरू करते हैं तो उनका पैसा और साल दोनों ही बर्बाद होंगे. इसलिए सरकार उनकी मांग पर सुनवाई करते हुए उनका भविष्य अंधकारमय होने से बचा ले. कोमल सिंह नाम की छात्रा का कहना है कि वब यूक्रेन में एमबीबीएस के पहले साल की छात्रा थी. वह बहुत ही उम्मीद से यूक्रेन पढ़ाई के लिए गई थीं, लेकिन वहां के हालात अचानक खराब हो गए. इस वजह से उन्हें अपनी जान बचाकर घर लौटना पड़ा.

आपके शहर से (इटावा)

उत्तर प्रदेश

उत्तर प्रदेश

Tags: Akhilesh yadav, Etawah news, Up hindi news, Yogi adityanath



Source link

more recommended stories