Wildlife: हिरणों को रास आ रहा पीलीभीत टाइगर रिजर्व, सभी प्रजातियों का बढ़ा कुनबा


सृजित अवस्थी

पीलीभीत. उत्तर प्रदेश का पीलीभीत टाइगर रिजर्व अपने बाघों और वन्य जीवन के लिए देश और दुनिया में जाना जाता है. हाल ही में पीलीभीत टाइगर रिजर्व को बाघों की संख्या दोगुनी से भी अधिक करने के लिए tx2 अवॉर्ड से नवाजा गया है. टाइगर के अलावा यहां अन्य वन्य जीव भी खूब फल-फूल रहे हैं. बीते कुछ वर्षों में यहां हिरणों की संख्या में भी खासा इजाफा हुआ है.

पीलीभीत टाइगर रिजर्व लगभग 73,000 हेक्टेयर क्षेत्र में फैला खूबसूरत जंगल है. रिजर्व में बड़े-बड़े घास के मैदान (ग्रास लैंड) के साथ पानी की भरपूर व्यवस्था है. यही कारण है कि बीते कुछ साल में यहां हिरणों की तमाम प्रजातियों की संख्या में चार गुना से भी अधिक बढ़ोतरी दर्ज की गई है. आंकड़ों की बात करें तो वर्ष 2018 में हिरणों की संख्या यहां 7,586 थी. जो वर्ष 2022 में बढ़कर 33,232 पहुंच गया है.

जंगल से गुजरते समय होता है दीदार

हिरणों की लगातार बढ़ती संख्या का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि जंगल से गुजरने वाले तमाम रास्तों पर पर्यटकों को अक्सर यह दिखते हैं. वहीं, ग्रास लैंड के समीप से गुजरने वाले जंगल मार्गों पर भी खूबसूरत हिरन स्पॉट किए जाते हैं.

पीलीभीत टाइगर रिजर्व हिरणों की तमाम प्रजातियां पाई जाती हैं. इनमें पाड़ा, चौसिंघा, सांभर, बारहसिंघा, काकड़ और चीतल शामिल हैं, लेकिन इन सभी प्रजातियों में सबसे अधिक चीतल प्रजाति का कुनबा बढ़ा है. वर्ष 2018 में इनकी संख्या 5,276 थी जो अब बढ़कर 28,257 हो गई है. वहीं, हिरण की विलुप्त प्रजातियों में गिने जाने वाले चौसिंघा की संख्या भी 10 से बढ़कर 110 हो गई है.

न्यूज़ 18 लोकल से बात करते हुए पीलीभीत टाइगर रिजर्व के डिप्टी डायरेक्टर नवीन खंडेलवाल ने बताया कि पीलीभीत टाइगर रिजर्व का माहौल हिरण प्रजाति से जुड़े वन्यजीवों को खासा पसंद आता है. इसके चलते बीते कुछ वर्षों में इनकी संख्या में चार गुना से भी अधिक बढ़ोतरी हुई है. उम्मीद है कि इस पर्यटन सत्र में हिरण प्रजाति पर्यटकों के लिए आकर्षण का केंद्र बनेगी.

Tags: Deer Hunt, Pilibhit news, Tiger reserve, Up news in hindi, Wildlife



Source link