विशेष सचिव प्रफुल्ल कमल के पत्र पर भड़के वकील, कहा- या तो माफी मांगो, नहीं तो शासन करे उन्हें बर्खास्त


प्रयागराज. यूपी के जिला न्यायालयों में प्रैक्टिस करने वाले अधिवक्ताओं को लेकर उत्तर प्रदेश शासन के विशेष सचिव प्रफुल्ल कमल के पत्र को लेकर पूरे प्रदेश में बवाल मचा हुआ है. इलाहाबाद हाईकोर्ट के अधिवक्ताओं ने भी विशेष सचिव के पत्र पर कड़ा एतराज जताते हुए पत्र की प्रतियां जलाकर अपना विरोध दर्ज कराया है. अधिवक्ताओं ने पत्र में जिला न्यायालयों में प्रैक्टिस करने वाले वकीलों को अराजक बताए जाने का कड़ा विरोध किया है. इस पत्र को लेकर विरोध प्रदर्शन कर रहे अधिवक्ताओं ने कहा है कि अधिवक्ता कभी अराजक नहीं हो सकता है.

अधिवक्ताओं ने कहा है कि अधिवक्ता के गलत आचरण पर कार्रवाई करने के लिए यूपी बार काउंसिल की संस्था बनी हुई है. लेकिन जिस तरह से उत्तर प्रदेश शासन के विशेष सचिव प्रफुल्ल कमल ने वकीलों को अराजक बताते हुए उसके खिलाफ कार्यवाही की बात कही है, यह न केवल वकीलों का अपमान है बल्कि यह न्यायपालिका का भी अपमान है. क्योंकि वकील भी न्यायपालिका का ही एक अंग है. इलाहाबाद हाईकोर्ट बार एसोसिएशन के पूर्व जॉइंट सेक्रेट्री एडमिनिस्ट्रेशन अभिषेक शुक्ला ने विशेष सचिव प्रफुल्ल कमल के खिलाफ कड़ी कार्यवाही की मांग की है. उन्होंने कहा है कि शासन उन्हें बर्खास्त करे या फिर वह वकीलों से सार्वजनिक तौर पर माफी मांगे.

हड़ताल की तैयारी
अधिवक्ता अभिषेक शुक्ला ने कहा है कि उत्तर प्रदेश शासन के विशेष सचिव प्रफुल्ल कमल की ओर से 14 मई 2022 को प्रदेश के सभी जिलों के जिलाधिकारियों को पत्र भेजा गया है. इस पत्र को लेकर अधिवक्ता 20 मई को प्रदेश भर में हड़ताल की तैयारी कर रहे हैं. उन्होंने कहा है कि अगर यूपी बार काउंसिल इसकी मंजूरी देती है तो पूरे प्रदेश में 20 मई को अधिवक्ता इसके विरोध में एक दिन न्यायिक कार्य नहीं करेंगे. इसके साथ ही साथ इलाहाबाद हाईकोर्ट बार एसोसिएशन भी इसके समर्थन में न्यायिक कार्य का बहिष्कार करेगा. गौरतलब है कि इस मामले को लेकर बुधवार को वाराणसी, हापुड़ समेत कई जिलों में आज वकीलों ने न्यायिक कामकाज का बहिष्कार किया है. इसी क्रम में प्रयागराज में भी वकीलों ने हाईकोर्ट के गेट नंबर 3 पर नारेबाजी कर विरोध प्रदर्शन किया है. नाराज वकीलों ने विशेष सचिव प्रफुल्ल कमल के पत्र की प्रतियों को भी आग के हवाले किया है.

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी | आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी |

FIRST PUBLISHED : May 18, 2022, 18:47 IST



Source link

more recommended stories