वाराणसी: बाढ़ के बाद सफाई में जुटे नमामि गंगे के सदस्य, लोगों से की ये अपील


हाइलाइट्स

बाढ़ के बाद गंगा के घाटों जमा है पन्नी, कपड़े समेत अन्य प्रदूषण सामग्री
नमामि गंगे के सदस्य एकत्रित कर, बाहर कर रहे निस्तारित

रिपोर्ट: अभिषेक जायसवाल

वाराणसी: बाढ़ के बाद बनारस (Banaras) के खूबसूरत घाटों का हाल बदहाल है. बदहाल घाटों की सूरत बदलने के लिए अब नमामि गंगे की टीमें आगे आकर घाटों पर सफाई अभियान चला रही हैं. वाराणसी (Varanasi) के अस्सी घाट (Assi Ghat) से गंगा भक्तों ने इस सफाई अभियान की शुरुआत की है. सफाई अभियान की शुरुआत के साथ ही नमामि गंगे के सदस्यों ने मिट्टी और सिल्ट में जमे 200 किलो पॉलीथिन और कपड़े निकाले हैं.

नमामि गंगे के सदस्यों ने इन कचरों को कूड़ा गाड़ी के जरिए उनके सही स्थान तक पहुंचाया है. सफाई अभियान के बाद गंगा भक्तों ने मां गंगा के तट पर पूजा और आरती भी की, ताकि लोग गंगा मैया के महत्व को जानकर सफाई के प्रति संवेदनशील बन सकें. नमामि गंगे के काशी क्षेत्र के संयोजक राजेश शुक्ला ने बताया कि बाढ़ के कारण घाटों पर मिट्टी और सिल्ट का अंबार जमा हो गया है.

कचरों को सही स्थान पर पहुंचाया
गंगा घाटों में जमा मिट्टी से पॉलीथिन, कपड़े और अन्य कई सारी ऐसी चीजें मिली हैं, जिससे गंगा मां प्रदूषित होती हैं. आमतौर पर नगर निगम घाटों पर पम्प के जरिए इन सिल्ट और मिट्टी को गंगा में ही बहा कर सफाई करता है. जिससे ये कचरे भी उसी में बह जाते हैं. लेकिन इस बार नमामि गंगे के सदस्यों ने सफाई कर, घाटों से निकले कचरे को बाहर निस्तारित किया. संयोजक राजेश शुक्ला ने कहा कि गंगा घाट से हमारी टीम, पॉलीथिन , सिल्ट और मिट्टी से निकले अन्य कचरो को उनके सही स्थान पर पहुंचा रही है.

लगातार चलेगा अभियान
राजेश शुक्ला ने बताया कि हमारी टीम वाराणसी के सभी घाटों पर हर दिन सुबह 4 घंटे तक सफाई अभियान चलाएगी. इस दौरान कचरों को मिट्टी और सिल्ट से निकालने का काम किया जाएगा. उन्होंने सफाई को लेकर लोगों से भी अपील की.

Tags: CM Yogi Aditya Nath, Kashi Vishwanath, Pm narendra modi, Uttarpradesh news, Varanasi news



Source link

more recommended stories