UP News: मेदांता अस्पताल में भर्ती आजम खान से मिले अखिलेश यादव, बीजेपी पर जमकर साधा निशाना


हाइलाइट्स

अखिलेश यादव ने बताया कि आजम खान से मिला और बातचीत हुई
अखिलेश यादव ने आजम खान की तबीयत पहले से बेहतर बताई

लखनऊ. राजधानी लखनऊ के मेदांता अस्पताल में एडमिट समाजवादी पार्टी के कद्दावर नेता और रामपुर से विधायक आजम खान से पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव ने गुरुवार शाम को मुलाक़ात की. करीब एक घंटे तक चली इस मुलाक़ात के बाद अखिलेश यादव ने आजम खान की तबीयत पहले से बेहतर बताई. साथ ही उन्होंने प्रदेश की योगी सरकार पर जमकर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि आजम साहब की तबीयत पूछने से पहले यह सवाल होना चाहिए कि अग्निवीर के नाम पर फ़ौज में जो भर्ती हो रही है उसमें कितनों को नौकरी मिलेगी? दूध और दही पर जीएसटी सावन व जन्माष्टमी के समय लगा दिया है. श्रद्धालुओं का क्या?

बता दें कि आजम खान को बुधवार की शाम तबीयत बिगड़ने पर लखनऊ के मेदांता अस्पताल में एडमिट कराया गया था. गुरुवार को उन्हें आईसीयू में शिफ्ट किया गया. डॉक्टरों ने उनकी हालत क्रिटिकल बताई है. इसके बाद शाम को अखिलेश यादव उनसे मिलने पहुंचे. करीब एक घंटे की मुलाकात के बाद अखिलेश यादव मीडिया से मुखातिब हुए और सरकार पर हमला बोला.

GST पर सवाल को घेरा
मीडिया से बातचीत में अखिलेश यादव ने बताया कि आजम खान से मिला और बातचीत हुई. फिलहाल उनकी तबीयत ठीक है. अखिलेश यादव ने कहा कि सवाल यह होना चाहिए कि फौज की भर्ती होने जा रही है, कितनों को नौकरी मिलेगी? भोले नाथ के श्रद्धालुओं को दूध पर क्या जीएसटी नहीं देना होगा? जन्माष्टमी आएगी, दूध का इस्तेमाल होगा और दूध, घी व मक्खन पर GST देना पड़ेगा. अब यह सोचना है कि किस समय धूमधाम से त्यौहार नहीं मनाया गया. क्या सरकार के पास महंगाई और बेरोजगारी का जवाब है.

बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे पर निशाना
अखिलेश यादव यहीं नहीं रुके और कहा कि बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे एक बारिश में ढह गया. किसान की सूखे में क्या मदद कर रहे हैं? धान खरीदने की क्या तैयारी है? इससे पहले भी सरकार ने किसानों का धान नहीं खरीदा? उन्होंने कहा कि “मैं खुद बुंदेलखंड हाईवे पर चला, 5 किलोमीटर के बीच दो बड़े ब्रिज इनकम्पलीट थे. लाइट नहीं लगी, मार्किंग नहीं, टोल का डिजाइन भी गलत हुआ है. चित्रकूट से इसे जोड़ने की बात थी, लेकिन 15-20 किलोमीटर पहले ही छोड़ दिया. चित्रकूट में जो टेबल टॉप एयरपोर्ट की बात हो रही है वो नेताजी (मुलायम) की शुरुआत थी.

हर घर तिरंगा अभियान पर अखिलेश यादव ने कही ये बात
हर घर तिरंगा अभियान पर अखिलेश यादव ने कहा कि बीजेपी ये कोशिश करती है कि सिर्फ वही राष्ट्रवादी हैं, जो उन्हें वोट नहीं देता वो राष्ट्रवादी नहीं है. झंडारोहण तो हमेशा से होता रहा है. हमारा तरीका दूसरा है, 9 अगस्त को आप आइए. उनसे क्या उम्मीद करेंगे जो आज तक तिरंगा नहीं लगाए। मैंने सुना है एक हेड क्वार्टर है जहां बरसों से तिरंगा नहीं लगा था. आरएसएस हेडक्वार्टर पर तिरंगा कब लगा ये बता सकते हैं? वो मदर पार्टी है, बीजेपी आरएसएस की सहयोगी संगठन है और पोलिटिकल ऑउटफिट.

Tags: Akhilesh yadav, Azam Khan, Lucknow news



Source link

more recommended stories