UP MLC Election: जानें कौन हैं सुनील रोहटा? जो मेरठ सीट पर RLD की तरफ से बीजेपी को देंगे टक्‍कर


लखनऊ. राष्‍ट्रीय लोकदल प्रमुख जयंत चौधरी (Jayant Choudhary) ने यूपी विधान परिषद चुनाव के लिए मेरठ-गाजियाबाद और बुलंदशहर सीट के कैंडिडेट का ऐलान कर दिया है. मेरठ सीट से राष्ट्रीय लोकदल ने सुनील रोहटा (Sunil Rohta) को कैंडिडेट बनाया है, जो कि पेश से बिल्‍डर हैं. वहीं, बुलंदशहर सीट पर सुनीता शर्मा (Sunita Sharma) पर दांव खेला है. बता दें कि सपा प्रमुख अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) ने यूपी विधान परिषद की दो सीटें अपने सहयोगी रालोद को दी हैं. जबकि 34 सीटें पर अपने कैंडिडेट उतारे हैं.

इसके साथ मेरठ-गाजियाबाद पर भाजपा के धर्मेंद्र भारद्वाज का रालोद के सुनील रोहटा से सामना होगा. वहीं, बुलंदशहर सीट पर भाजपा के नरेंद्र भाटी बनाम रालोद की सुनीता शर्मा के बीच टक्‍कर होगी. भाजपा कैंडिडेट धर्मेंद्र भारद्वाज शिक्षाविद हैं और वह काफी समय से पार्टी में सक्रिय हैं. यही नहीं, वह मदरहुड यूनिवर्सिटी रुड़की के चांसलर भी हैं. जबकि वह 2014 में सहारनपुर सीट से शिक्षक एमएलसी का चुनाव निर्दलीय लड़ चुके हैं और 22 हजार वोट लेकर दूसरे स्थान पर रहे थे. वह सिर्फ 800 मतों से हारे थे.

जानें कौन हैं सुनील रोहटा
वैसे मेरठ-गाजियाबाद सीट पर रालोद के क्षेत्रीय अध्यक्ष रहे चौधरी यशवीर सिंह और संगठन महामंत्री रहे डॉ राजकुमार सांगवान भी टिकट की दौड़ में थे, लेकिन पार्टी ने सुनील रोहटा पर भरोसा जताया है. वहीं, विधानसभा चुनाव में सपा और रालोद ने गठबंधन में चुनाव लड़ा था, तो एमएलसी चुनाव में भी दोनों पार्टी साथ हैं. सुनील रोहटा मेरठ के रोहटा गांव के रहने वाले हैं. यही नहीं, पेश से बिल्‍डर रोहटा करीब 25 साल से रालोद से जुड़े हैं. जाट समुदाय के रोहटा रालोद के प्रदेश मीडिया संयोजक रह चुके हैं. इस बार उन्‍होंने विधानसभा चुनाव 2022 में मेरठ की सिवालखास सीट से टिकट मांगा था, लेकिन पार्टी ने अपने सिंबल पर सपा के गुलाम मोहम्मद को मैदान में उतारा था, जो कि विधायक चुने गए हैं. सपा-रालोद गठबंधन का प्रदर्शन विधानसभा चुनाव में पश्चिम उत्तर प्रदेश में खासकर जाट बाहुल्य इलाकों में अच्छा रहा है. मेरठ में भारतीय जनता पार्टी के मुकाबले सपा-रालोद गठबंधन ने चार सीटें हासिल की हैं. जबकि भाजपा को तीन सीटें मिली हैं. ऐसे में सुनील रोहटा को एमएलसी का टिकट देकर रालोद ने जाटों को संतुष्ट करने की कोशिश की है.

बुलंदशहर में सुनीता शर्मा पर खेला दांव
रालोद ने बुलंदशहर पर सुनीता शर्मा को उतारा है, जो कि अरनिया की पूर्व ब्लॉक प्रमुख हैं. इस सीट पर उनका मुकाबला भाजपा के नरेंद्र भाटी से होगा. ग्रेटर नोएडा के बोड़ाकी निवासी नरेंद्र भाटी ने वर्ष 1975 में 18 वर्ष की उम्र में राजनीति में कदम रखा था. भाटी सिकंदराबाद विधानसभा सीट से तीन बार विधायक रह चुके हैं. इस सीट पर कुल 2,970 मतदाता हैं, जिसमें गौतम बुद्ध नगर से 308 और बुलंदशहर के 2662 मतदाता हैं.

इस वजह से खास है मेरठ-गाजियाबाद सीट
मेरठ एमएलसी सीट में मेरठ, हापुड़, गाजियाबाद, बागपत चार जिले आते हैं. जबकि इन चार जिलों के 4281 वोट हैं. मेरठ में के ग्राम प्रधान 479, क्षेत्र पंचायत के 824, जिला पंचायत के 33, नगर निगम के 90, नगर पालिका के 50, नगर पंचायत के 226 और कैंट बोर्ड के 8 सदस्य मतदान करेंगे. इसके अलावा बागपत में 916, गाजियाबाद में 800 और हापुड़ में कुल 868 वोट हैं. वहीं, फिलहाल मेरठ-गाजियाबाद सीट पर समाजवादी पार्टी का कब्‍जा है. 2016 में सपा के राकेश यादव ने बीजेपी कैंडिडेट को हराकर जीत हासिल की थी. इससे पहले यानी 2010 में इस सीट पर बसपा के प्रशांत चौधरी को जीत मिली थी.

बता दें कि 100 सदस्यीय यूपी विधान परिषद में वर्तमान में भाजपा के 35 सदस्य, सपा के 17 और बहुजन समाज पार्टी के चार सदस्य हैं. यूपी विधान परिषद में कांग्रेस, अपना दल (सोनेलाल) और निषाद पार्टी का एक-एक सदस्य है. वहीं, इस बार 9 अप्रैल को 36 सीटों के लिए मतदान होना है. इस चुनाव के लिए भाजपा और सपा के बीच कड़ी टक्‍कर रहने की उम्‍मीद है.

आपके शहर से (लखनऊ)

उत्तर प्रदेश

उत्तर प्रदेश

Tags: Akhilesh yadav, Jayant Choudhary, Meerut news today, Rastriya lok dal, UP Legislative Council



Source link

more recommended stories