UP मॉनसून सत्र: सरकार को घेरने के लिए सपा ने बनाया खास प्लान, योगी-अखिलेश में तीखी बहस के आसार


हाइलाइट्स

विधानसभा में धरने पर रोक के बाद सपा ने बनायी खास रणनीति
समाजवादी पार्टी कई मुद्दों को लेकर सरकार को घेरेगी
विपक्ष की मंशा भांपते हुए सरकार ने भी की तैयारी

दिल्ली. समाजवादी पार्टी का विधानभवन में चौ. चरण सिंह की मूर्ति पर धरना का एलान परवान नहीं चढ़ सका. पुलिस की सख्ती के चलते सपाई विधानभवन की ओर कूच नहीं कर सके. ऐसे में पार्टी नेताओं में आक्रोश चरम पर है. उन्होंने सड़क से लेकर सदन तक सरकार को घेरने का प्लान बनाया है. लिहाजा, इस बार भी विधानसभा के मॉनसून सत्र में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव के बीच सवालों के बौछार देखने को मिल सकती है.

यूपी विधान मंडल का मानसून सत्र 19 से 23 सितंबर तक चलेगा. इसको लेकर सपा ने रणनीति तय कर दी है. बुधवार को विधानभवन में धरना पर रोक के बाद पार्टी ने रणनीतिकारों के साथ मंथन किया. पार्टी के प्रवक्ता डॉ आशुतोष वर्मा के मुताबिक 19 सितंबर को राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव के नेतृत्व में सपा मुख्यालय से विधानसभा तक मार्च निकालने का फैसला किया गया है. इसमें सरकार की खामियों को उठाया जाएगा. वहीं दावा किया कि विधानसभा सत्र में नेता प्रतिपक्ष अखिलेश यादव अपने प्रतिनिधिमंडल की रिपोर्ट सदन में रखेंगे. यह वह रिपोर्ट हैं जहां यूपी में विभिन्न घटनाएं होने पर सपा ने प्रतिनिधि मंडल दल भेजा था. इसके अलावा बेरोजगारी, महंगाई के साथ-साथ हाल में यूपी में हुई वारदातों को लेकर कानून व्यवस्था पर भी सवाल खड़े किए जाएंगे. इसमें लखीमपुर की घटना, पुलिस कस्टडी में मौतों का मामला प्रमुखता से उठाने का प्लान है. विधान सत्र में मुद्दे उठाकर सपा जनता के बीच यह साफ संदेश देना चाहती है कि वह उनसे जुड़े हर मुद्दे पर संघर्ष को तैयार है.

पिछली बार जमकर हुई योगी-अखिलेश में बहस, केशव मौर्य से जुबानी जंग
24 मई 2022 को विधानसभा सत्र के दौरान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और नेता प्रतिपक्ष अखिलेश यादव के बीच तीखी बहस देखने को मिली थी. इस दौरान सिद्धार्थनगर में महिला की मौत पुलिस की गोली से होने के आरोप पर दोनों नेताओं  में जमकर सवाल-जवाब हुए. इसके अलावा उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य और नेता प्रतिपक्ष अखिलेश यादव में भी जुबानी जंग ने सदन के माहौल को असहज कर दिया था.

मंत्रियों को सदन में तैयारी से आने के निर्देश
विपक्ष का आक्रामक रुख सत्ता पक्ष भी भांप रहा है. ऐसे में सभी मंत्रियों को सदन में तैयारियों के साथ आने के निर्देश दिए गए हैं. उन्हें विभागीय जानकारी के साथ-साथ विधानसभा में उठाए जाने वाले प्रश्नों की फुल तैयारी करके आने को कहा गया है, ताकि सदन में होने वाली चर्चा से जनता में साफ संदेश दिया जा सके.

Tags: Akhilesh yadav, CM Yogi Adityanath, Samajwadi party



Source link

more recommended stories