ट्विटर और एलॉन मस्क की लड़ाई मे भारत की एंट्री !, जानिए कब तक होगी सुनवाई  | India’s entry in the battle of Twitter and Elon Musk, know how long the hearing will be held



डिजिटल डेस्क,नई दिल्ली। दुनिया के सबसे अमीर सख्स और टेस्ला कंपनी के सीईओ एलॉन मस्क द्वारा  ट्विटर  डील रद्द होने बाद मामला अब कार्ट में पहुंच गया है। ट्विटर डील का रद्द होना एलॉन मस्क के लिए एक बड़े झटके रूप में देखा जा रहा हैं। हालांकि कोर्ट में ट्विटर और एलॉन मस्क के बीच डील तो नहीं चल रही है, बल्कि डील नहीं होने की वजह से केस  चल रहा है। ट्वीटर डील का पुरा मामला डेलावेयर चांसरी कोर्ट में फाइल हैं। वहीं अब माना जा रहा है कि ट्विटर और एलॉन मस्क की लड़ाई ‘भारत’ तक पहुंच चुकी हैं। हालांकि इसमें केवल भारत सरकार का नाम  सामने आया हैं। 

 यह पुरा मामला ट्विटर और एलॉन मस्क की 44 अरब डॉलर में होने वाली डील का हैं। आपकों बता दे कि मस्क ने ट्विटर डील को कैंसल कर दिया है इसके बाद 12 जुलाई को ट्विटर के शेयर में काफी गिरावट देखने को भी मिला। जिसके बाद ही ट्विटर कोर्ट पहुंच गया। हालांकि दोनों पक्षों ने कोर्ट में अपनी अपनी बात रखी हैं। मस्क ने ट्विटर पर कई आरोप लगाए हैं। मस्क ने इन आरोपों में भारत सरकार के साथ ट्विटर की खींचातानी का भी जिक्र किया हैं। 

ट्विटर के द्वारा आंखों में धूल झोकी गई- एलॉन मस्क
 
ट्विटर डील के मामले मे एलॉन मस्क ने कहा ट्विटर को खरीदने के लिए उनकी ‘आखों में धुल झोकी ‘ जा रही थी। मस्क ने कहा कि ट्विटर और भारत सरकार के बीच  चल रहे केस और जांच के बारे में ट्विटर ने जानकारी देने से मना किया। इस दौरान एलॉन मस्क ने कहा ट्विटर ने अपने तीसरे सबसे बडे़ बाजार को रिस्क में डाला हैं। 

मस्क ने अपने बचाव में कहा कि भारत के आइटी मंत्रालय ने 2021 में कुछ नियम बनाये थे। इन नियमों के कारण भारत सरकार सोशल मीडिया पोस्ट की जांच और पोस्ट से जुड़ी जानकारी मांग सकती हैं। केंद्र सरकार के नए नियमों के अनुसार ट्विटर को हाल फिलहाल में कई जांच का समाना पड़ा हैं। 

क्यों आया ट्विटर विवाद में भारत का नाम 

वर्तमान समय में ट्विटर के लिए भारत  दुनिया का तीसरा सबसे बाजार हैं। इस अनुसार किसी जांच मे फंसने के वजह से ट्विटर सस्पेंड हो सकता हैं। यहां तक ट्विटर का सर्विस भी बंद हो सकती हैं। जिसके कारण ट्विटर को नुकसान उठाना पड़ सकता हैं। 

हालांकि ट्विटर ने भारत के खिलाफ कोर्ट में अर्जी दाखिल की। जहां ट्विटर ने भारत सरकार की डिमांड को चुनौती दी। इसका मतलब यह हैं कि ट्विटर ने भारत सरकार के खिलाफ मर्जर एग्रिमेट साइन करते वक्त जांच के दायरे में थी इसलिए ट्विटर ने भारत सरकार को कोर्ट में कानूनी चुनौती दी हैं। 

मस्क ने बताई ट्विटर डील से पीछे होने की असल वजह

ट्विटर डील से पीछे होने की असल वजह बताते हुए एलॉन मस्क ने कहा कि जब मैने  प्लेटफॉर्म पर बॉट अकाउंट की संख्या के बारे मे पुछा तो ट्विटर कंपनी ने यह बताने से इनकार कर दिया हैं। एलॉन मस्क की तरफ से यह भी कहा गया कि  ट्विटर के द्वारा  जितने बॉट अकाउंट्स डिक्लेयर किए गए हैं। उससे कही ज्यादा बॉट अकाउंट्स ट्विटर प्लेटफॉर्म के पास हो सकते हैं। जोकि ट्विटर बताने से इनकार कर रहा हैं। 

सूत्रों के मुताबिक ट्विटर इस डील को हर हाल में पूरी करने की कोशिश कर रहा हैं। इसलिए भी ट्विटर मस्क के खिलाफ कोर्ट जा चुका हैं। इस दौरान अब तक दोनों ने  कोर्ट में अपना पक्ष रख रहे हैं। 
इस डील का सबसे बड़ा नुकसान यह भी हैं कि दोनों में जो कोई इस डील से पीछे  हटता हैं उसे  1 बिलियन डॉलर्स की पेनाल्टी देनी होगी हालांकि अभी तक यह साफ नही हैं कि पेनाल्टी आखिर कौन देगा। या फिर ये डील कैंसिल भी होगी या नहीं। यह  तो आने वाले वक्त में ही पता चलेगा। फिलहाल कोर्ट की सुनवाई 17 अक्टूबर शुरू होगी  जिसका ट्रायल पांच दिन तक चलेगा। 



Source link

more recommended stories