Tesla to pay ex-worker $137 million in racial discrimination lawsuit | टेस्ला नस्लीय भेदभाव के मुकदमे में पूर्व कर्मी को 13.7 करोड़ डॉलर का भुगतान करेगी



डिजिटल डेस्क,सैन फ्रांसिस्को। इलेक्ट्रिक वाहन कंपनी टेस्ला को एक संघीय अदालत ने एक पूर्व कर्मचारी को नुकसान की भरपाई के रूप में लगभग 13.7 करोड़ डॉलर का भुगतान करने का आदेश दिया है, जिसे कथित तौर पर कैलिफोर्निया के फ्रेमोंट में कंपनी के संयंत्र में नस्लवादी दुर्व्यवहार, भेदभाव और उत्पीड़न का सामना करना पड़ा था।

वाशिंगटन पोस्ट के मुताबिक, जून 2015 और मई 2016 के बीच कंपनी के लिए काम करने वाले एक एलेवेटर ऑपरेटर ओवेन डियाज ने कार निर्माता पर शत्रुतापूर्ण माहौल बनाने और नस्लीय उत्पीड़न का आरोप लगाते हुए मुकदमा दायर किया और कहा कि कारखाने में उसके लिए रोजाना नस्लवादी शब्दों का इस्तेमाल किया जाता था, जहां उनके बेटे डेमेट्रिक ने भी काम किया है।

अश्वेत समुदाय के डियाज ने प्रारंभिक मुकदमे में आरोप लगाया है कि श्रमिकों लगातार नस्लवादी उत्पीड़न का शिकार होना पड़ रहा है और पर्यवेक्षकों ने कोई कार्रवाई नहीं की है।

न्यूयॉर्क टाइम्स के मुताबिक, कैलिफोर्निया सिविल राइट्स लॉ ग्रुप के डियाज के वकील लॉरेंस ऑर्गन ने कहा था, यह बहुत अच्छी बात है कि अमेरिका में सबसे अमीर निगमों में से एक में काम कर रहे अश्वेत लोगों में घृणित परिस्थितियों का सामना करने को लेकर आक्रोश पनपा है।

जूरी ने टेस्ला को भावनात्मक संकट का सामना करने वाले डियाज को अतिरिक्त 60.9 लाख डॉलर का भुगतान करने के लिए भी कहा है।

डियाज ने कहा, इस मुकाम तक पहुंचने में चार साल लग गए। ऐसा लग रहा है, जैसे मेरे कंधों से एक बड़ा वजन उतर गया हो।

डियाज ने कहा कि एक पर्यवेक्षक और अन्य सहयोगियों ने उसके लिए बार-बार नस्लीय गालियों का इस्तेमाल किया।

उसने कहा कि कारखाने के चारों ओर अश्वेत बच्चों के अपमानजनक कार्टून चित्र रखे गए थे। एक बाथरूम स्टॉल में लिखे एक नस्लीय विशेषण को कर्मचारियों खरोंच दिया और स्वस्तिक चिन्ह बनाया था। बार-बार शिकायतों के बावजूद कंपनी ने इस तरह के व्यवहार पर कोई कार्रवाई नहीं की।

इस बीच, टेस्ला के उपाध्यक्ष वैलेरी केपर्स वर्कमैन ने सोमवार की देर रात एक आंतरिक ईमेल में कहा कि कंपनी ने बाद में अपनी वेबसाइट पर एक ब्लॉग पोस्ट में मुकदमे में आरोपों को कम कर दिया।

 

(आईएएनएस)



Source link

more recommended stories