तां‌त्रिक बन एक ही परिवार के 4 लोगों को खिलाया था जहर, 16 साल तक गुजरात में छुपा, जानें पुलिस ने अब कैसे पकड़ा इनामी हत्यारा


मिर्जापुर. मिर्जापुर जिले की पुलिस ने 16 साल पूर्व प्रसाद में जहर खिलाकर चार हत्या और लूट की वारदात को अंजाम देने वाले ओझा तांत्रिक को गिरफ्तार कर लिया है. उसे गुजरात के सूरत से गिरफ्तार किया गया. वह यहां नाम बदलकर भिन्डी बाजार में कारपेंटर का काम कर रहा था. पुलिस ने इसे भगोड़ा घोषित करने के साथ ही 50 हजार का इनाम घोषित किया था. वह चोरी छिपे जिले में आता था और होटल व धर्मशाला में शरण लेता था. इसे गिरफ्तार करने के लिए शहर कोतवाली पुलिस, स्वाट और एसओजी टीम को कड़ी मशक्कत करनी पड़ी.

पप्पू उर्फ ओमप्रकाश विश्वकर्मा देहात कोतवाली क्षेत्र के अर्जुन पुर का निवासी बताया गया है. वह इन दिनों गुजरात में परिवार के साथ रह रहा था. लम्बे अरसे से फरार चल रहे 50 हजार के इनामी बदमाश को दबोचने के लिए थाना कोतवाली शहर व स्वाट, एसओजी और सर्विलांस की संयुक्त टीम ने काम किया. जिसके चलते 16 वर्षों से हत्या के अभियोग में फरार चल रहा 50 हजार का ईनामिया अभियुक्त गिरफ्तार कर लिया गया.

2006 में दर्ज हुआ था चार लोगों की हत्या का मामला
एसपी सिटी संजय कुमार के अनुसार 14 नवम्बर 2006 में शहर कोतवाली में हत्या का मामला दर्ज किया गया था. उस वक्त ओझाई करने वाले पप्पू विश्वकर्मा ने एक ही परिवार के 4 लोगों की जहर खिलाकर निर्मम हत्या कर दी थी. उसने प्रसाद के नाम पर खीर बनवाई और उसमें जहर मिला दिया था. जिसे प्रसाद समझकर खाने वाले राधेश्याम उनकी पत्नी लक्ष्मी और दो पुत्र राजेंद्र और संतोष की मौत हो गई थी.

जहर खिलाकर जेवर लूटकर हुआ था फरार
जहर खिलाने के बाद अचेत होने पर आरोपी जेवर और नगदी समेट कर फरार हो गया था. वारदात को अंजाम देने के बाद पप्पू उर्फ ओमप्रकाश विश्वकर्मा फरार चल रहा था. डीआईजी विन्ध्याचल परिक्षेत्र ने पूर्व में घोषित 5 हजार रुपये का पुरस्कार बढ़ाकर 50 हजार कर दिया गया था. पप्पू उर्फ ओमप्रकाश विश्वकर्मा अपना नाम बदलकर राजू विश्वकर्मा गुलशन नगर, भिन्डी बाजार, सूरत गुजरात के पते पर रह रहा था. सटीक सूचना पर पुलिस ने उसे दबोच लिया.

Tags: Mirzapur news, Mirzapur Police, UP news



Source link

more recommended stories