गांव की बेटियों को वेटलिफ्टर बना रहे अजय पाल, टूटी-फूटी किट के सहारे दिला चुके हैं कई मेडल

मंजिलें उन्हीं को मिलती हैं जिनके सपनों में जान होती है. पंखों से कुछ नहीं.