Surya Grahan 2022: ग्रहण खत्म होने के बाद सबसे पहले क्या खाना चाहिए? पंडित नवीन उपाध्याय से जानें


हाइलाइट्स

सूर्य ग्रहण महत्वपूर्ण खगोलीय घटना होने के साथ धार्मिक महत्व रखता है.
सूतक काल और सूर्य ग्रहण के दौरान कुछ भी खाने की मनाही की जाती है.

Surya Grahan 2022: हिंदू धर्म में सूर्य ग्रहण (Solar Eclipse) का काफी महत्व माना जाता है. खगोलीय तौर पर भी ये एक महत्वपूर्ण घटना होताी है. सूर्य ग्रहण के 12 घंटे पहले से सूतक काल शुरू हो जाता है और मान्यता है कि सूतक काल और ग्रहण के दौरान भोजन नहीं करना चाहिए. हिंदू मान्यताओं के अनुसार ग्रहण काल के दौरान कुछ राशियों पर शुभ और कुछ पर अशुभ प्रभाव पड़ता है. ऐसे में किसी भी प्रकार की परेशानी से बचने के लिए कुछ उपाय भी बताए जाते हैं. एक बड़ा स्वाल ये भी उठता है कि ग्रहण खत्म होने के बाद आखिर सबसे पहले किस चीज़ का सेवन करना चाहिए.
सूर्य ग्रहण के बाद आखिर किस चीज को सबसे पहले खाया जाए हो सकता है ये सवाल आपके दिमाग में भी आता हो. हम आपको बताने जा रहे हैं कि आखिर सूर्य ग्रहण के बाद सबसे पहले किस चीज को खाना श्रेष्ठ होता है. मध्यप्रदेश के इंदौर के रहने वाले पंडित नवीन उपाध्याय इसे लेकर कुछ जरूरी बातें बताते हैं.

इसे भी पढ़ें: Surya Grahan 2022: ग्रहण के समय मंदिर के कपाट क्यों बंद किये जाते हैं? जानिए वजह

सूर्य ग्रहण के बाद तिल खाना श्रेष्ठ
सूर्य ग्रहण खत्म होने के बाद क्या खाया जाए इसे लेकर पंडित नवीन उपाध्याय कहते हैं कि सूर्य ग्रहण खत्म होने के बाद सबसे पहले स्नान करना चाहिए और उसके बाद लाल रंग की चीजों जैसे गेहूं, गुड़, तांबा आदि का दान किया जाना चाहिए. इसके बाद भगवान को तिल से बनी चीजें (जैसे तिल लड्डू, तिल चक्की आदि) का भोग लगाया जाना चाहिए और उन्हें ही सबसे पहले खाया जाना चाहिए. सूर्य ग्रहण के बाद तिल खाना सबसे उपयुक्त होता है.

सूर्य ग्रहण 2022 का समय
सूर्य ग्रहण का प्रारंभ शाम 04:28 बजे से होकर इसका समापन शाम 05:30 बजे होगा. स्थान के आधार पर इसके प्रारंभ और समापन के समय में थोड़ा बहुत परिवर्तन संभव हो सकता है.

इसे भी पढ़ें: Surya Grahan 2022: आज है साल का आखिरी सूर्य ग्रहण, जानें सूतक काल, ग्रहण समय और आप पर प्रभाव

सूतक काल में न करें ये काम
1. सूर्य ग्रहण के पहले सूतक काल में सोना पूरी तरह से वर्जित माना गया है.
2. सूतक काल में भोजन भी नहीं करना चाहिए.
3. सूतक काल में मंदिर के कपाट बंद रहते हैं. इस वक्त अपने इष्ट का ध्यान करना चाहिए.
4. गर्भवती महिलाओं को सूतक काल में सुई, कैंची, चाकू जैसी चीजों का उपयोग नहीं करना चाहिए.

Tags: Religion, Surya Grahan



Source link