श्रीकांत त्यागी प्रकरण में गरमाई राजनीति, सांसद डॉ महेश शर्मा ने पत्र लिखकर दी सफाई, लगाया ये बड़ा आरोप


हाइलाइट्स

त्यागी समाज की नाराजगी को बना रहे मुद्दा
श्रीकांत केस में महेश शर्मा ने लिखी चिट्‌ठी
नोएडा का माहौल खराब करने की कोशिश

नोएडा. गौतमबुद्धनगर से सांसद डॉ. महेश शर्मा अब श्रीकांत त्यागी प्रकरण में घिर गए हैं. उन्होंने इस मामले में अब पत्र लिखकर सफाई दी है. उन्होंने पत्र में कहा है कि कुछ लोग नोएडा का माहौल खराब करने का प्रयास कर रहे हैं. इसमें एक स्थानीय राजनेता, अधिकारी के संरक्षण में चल रहें एक लोकल यू ट्यूब चैनल की साजिश है. डॉ. महेश शर्मा ने जनता के नाम लिखे पत्र में कहा है कि सांसद के खिलाफ भेजे गए अलग-अलग लेटर पैड पर एक ही व्यक्ति, एक ही पेन की लिखावट है, जो यह बताता है कि कुछ लोग विशेष रूचि लेकर स्थिति को खराब कर रहे और कानून व्यवस्था पर प्रश्न चिन्ह उठा रहे है. इस विषय की जांच होनी चाहिए.

सांसद डॉ महेश शर्मा ने कहा कि अपराधी और पीड़ित को धर्म और जाति से जोड़कर देखना सही नहीं है. उन्होंने ये भी लिखा कि मेरा उद्देश्य किसी व्यक्ति विशेष जाति या समुदाय की भावनाओं को ठेस पहुंचाना नहीं है. श्रीकांत त्यागी के परिवार के साथ भी मेरी पूरी सहानुभूति है और त्यागी समाज हमेशा से मेरा व भाजपा का समर्थक रहा है. मैने एक भी शब्द त्यागी समाज के लिए नहीं बोला है.

मेरठ के सांसद के फोन पर पहुंचे सोसाइटी

सांसद डॉक्टर महेश शर्मा ने बताया कि 7 अगस्त की रात को 8 बजे मै एक पारिवारिक कार्यक्रम में था. मुझको कई फोन आए कि सोसाइटी में लगभग 15 लोग घुस आएं है और बदतमीजी कर रहे है. वहां पर पुलिस नहीं है. इस बीच मेरे वरिष्ठ साथी सांसद मेरठ राजेंद्र अगवाल का फोन आया कि ओमेक्स सोसाइटी में पीड़ित महिला उनकी रिश्तेदार है. उनकी मदद की जाए. मैने पुलिस के एडिशनल पुलिस कमिश्नर और एडीसीपी को फोन पर वार्ता की और पुलिस के कुछ अधिकारी पहुंचे. मैं वहां पहुंचा तो अफरातफरी का माहौल था.

प्रमुख गृह सचिव गृह का आया फोन

डॉ महेश शर्मा ने पत्र के जरिए बताया कि स्थिति की गंभीरता को भांपकर मैने प्रमुख सचिव गृह अवनीश अवस्थी को फोन किया व घटना की जानकारी दी. लगभग 3 से 4 मिनट बाद उनका फोन आया कि जिलाधिकारी व पुलिस आयुक्त वहां पहुंच रहे है. लगभग 30 मिनट में ये दो अधिकारी व विधायक पंकज सिंह वहां पहुंचे.

Tags: Noida news, Noida Police, UP news, Yogi government



Source link

more recommended stories