प्रयागराज हिंसा के ‘मास्टरमाइंड’ जावेद पंप समेत टॉप-10 उपद्रवी दूसरी जेलों में ट्रांसफर, जानें क्‍या है वजह?


प्रयागराज. यूपी के प्रयागराज के अटाला में 10 जून को जुमे की नमाज के बाद हुई हिंसा के मास्टरमाइंड जावेद मोहम्मद उर्फ जावेद पंप को नैनी सेंट्रल जेल से देवरिया जेल शिफ्ट किया गया है. वहीं, अटाला बड़ी मस्जिद के पेश इमाम अली अहमद को कानपुर नगर की जेल में ट्रांसफर किया गया है. इसके अलावा आठ अन्य उपद्रवियों को मैनपुरी, अलीगढ़, आगरा, बरेली और लखीमपुर खीरी जेल भेज गया है. इसके पीछे पुलिस प्रशासन ने सुरक्षा कारणों का हवाला दिया है.

प्रयागराज के एसएसपी अजय कुमार के मुताबिक, इन उपद्रवियों से नैनी जेल में उनके करीबी लोग मिलने पहुंच रहे थे. इससे शांति व्यवस्था को खतरा था, इसलिए इन टॉप 10 बलवाइयों को सुरक्षा कारणों से सैकड़ों किलोमीटर दूर दूसरी जेलों में शिफ्ट किया गया है.

जावेद पंप और पेश इमाम अली अहमद समेत 97 उपद्रवी पहुंचे जेल
प्रयागराज पुलिस की तहकीकात में करेली में जेके आशियाना कालोनी निवासी मोहम्‍मद जावेद उर्फ जावेद पंप और अटाला बड़ी मस्जिद के पेश इमाम अली अहमद की भूमिका लोगों को उकसाने की मिली है. जावेद पंप ने व्हाट्सएप ग्रुप बनाकर लोगों को जुमे की नमाज के बाद विरोध में उतरने के लिए उकसाया था. पता चला है कि लड़कों को पैसे और बिरयानी का भी लालच दिया गया था. इस बवाल में तीन मुकदमे लिखकर पुलिस ने जावेद पंप और पेश इमाम अली अहमद समेत 97 उपद्रवियों को गिरफ्तार कर जेल भेजा था. अब उनमें जावेद पंप समेत 10 टॉप उपद्रवियों को प्रयागराज से सैकड़ों किलोमीटर दूर अन्‍य जिलों की जेलों में भेजा गया है. वहीं, रविवार (19 जून) को प्रयागराज पुलिस ने अखलाक नाम के व्‍यक्ति को गिरफ्तार किया है, जिसने लोगों को उकसाकर पत्‍थरबाजी करवाई थी.

नूपुर शर्मा के बयान को लेकर हुआ था बवाल
गौरतलब है कि भाजपा से निलंबित की जा चुकी नूपुर शर्मा की गिरफ्तारी की मांग को लेकर 10 जून को जुमे की नमाज के बाद अटाला में बड़ी मस्जिद से निकले लोगों और आसपास के कम उम्र के लड़कों ने उकसावे में आकर सुरक्षा बलों पर पथराव किया था. पीएसी के ट्रक समेत कई गाड़ियों में आग लगा दी थी. दो घंटे तक चले उपद्रव में पुलिस, पीएसी और आरएएफ के कई जवान घायल हो गए थे.

Tags: Prayagraj News, Prayagraj Police, UP Violence



Source link

more recommended stories