प्रयागराज हिंसा: AIMIM नेता समेत पांच के खिलाफ गैर जमानती वारंट, आरोपियों की लोकेशन ट्रेस कर रही पुलिस


प्रयागराज. संगम नगरी प्रयागराज में 10 जून को जुमे की नमाज के बाद हुई हिंसा के मामले में प्रयागराज पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज और वीडियो के आधार पर उपद्रवियों के पोस्टर जारी किए थे, जिसमें से पुलिस ने 16 उपद्रवियों की पहचान भी कर ली है. जबकि पांच अफसरों की टीम जांच के बाद आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई की संस्तुति करेगी. कमेटी की संस्तुति पर आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेजा जाएगा. अब तक इस मामले में 97 लोगों को गिरफ्तार कर पुलिस ने जेल भेजा दिया है, जिसमें सात नाबालिग भी पकड़े गए थे. जिन्हें बाल संप्रेषण गृह भेजा गया है. जबकि पुलिस एक दर्जन से ज्यादा संदिग्धों को पकड़कर पूछताछ कर रही है.

वहीं, इस बवाल का सियासी कनेक्शन भी सामने आया था. इस मामले में अब तक किसी भी सियासी आरोपी की गिरफ्तारी नहीं हो पाई है. हालांकि खुल्दाबाद थाना पुलिस ने साजिश रचने के पांच आरोपियों के खिलाफ कोर्ट से एनबीडब्ल्यू जारी करा लिया है, जिसमें असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी एआईएमआईएम के जिला अध्यक्ष मोहम्मद शाह आलम समेत पांच आरोपी शामिल हैं. पुलिस सर्विलांस की मदद से इन आरोपियों की लोकेशन ट्रेस करने की कोशिश कर रही है.

पुलिस ने एआईएमआईएम नेता समेत इनके ​खिलाफ जारी कराया गैर जमानती वारंट
पुलिस ने एआईएमआईएम के जिलाध्यक्ष मोहम्मद शाह आलम, करेली के पार्षद फजल खान, पूरामुफ्ती के जीशान रहमानी, उमर खालिद और सिविल लाइन के डॉ आशीष मित्तल के खिलाफ कोर्ट से एनबीडब्ल्यू जारी कराया है. इनके खिलाफ हिंसा को बढ़ावा देने और साजिश रचने का आरोप है. गौरतलब है कि 10 जून को हुई हिंसा और बवाल के बाद करेली थाने में एक और खुल्दाबाद थाने में दो एफआईआर दर्ज कराई गईं थी.

बता दें कि मोहम्मद साहब पर बीजेपी की निलंबित प्रवक्ता ने विवादित बयान दिया था. इसके बाद देशभर में प्रतिक्रिया देखने को मिली. इसी के बाद शुक्रवार जुमे की नमाज के बाद एक वर्ग के लोगों ने विरोध प्रदर्शन किया. प्रदर्शन हिंसा के बाद पुलिस ने कई लोगों पर कार्रवाई की और कई की पहचान कर कार्रवाई जारी है.

Tags: Prayagraj News, UP news, UP police



Source link

more recommended stories