प्रयागराज:-आसान नहीं था शहर दक्षिणी के चुनावी रण को दोबारा जीतना,जानिए नंद गोपाल नंदी की जीत का फैक्टर


Prayagraj:-शहर दक्षिणी विधानसभा सीट(south assembly seat) से कैबिनेट मंत्री नंद गोपाल गुप्ता नंदी ने दोबारा जीत हासिल की है.नंदी इस विधानसभा से चौथी बार चुनाव लड़े और जीत दर्ज की है.नदी इस सीट से बहुजन समाजवादी पार्टी और भाजपा के टिकट पर दो दो बार चुनाव लड़ चुके हैं.बसपा से 2007 में निर्वाचित हुए और 2012 में पुन: यहां से चुनाव लड़ें लेकिन हार का सामना करना पड़ा था.पिछले विधानसभा चुनाव 2017 में भाजपा के टिकट से जीते थे.विधानसभा 2022 में इसी वीआईपी सीट से चुनाव लड़े और भाजपा के टिकट से जीत हासिल करते हुए दोबारा विधायक बन गए हैं.हालांकि दक्षिण विधानसभा का एक वर्ग चाहता था कि वह इस बार किसी नए चेहरे को मौका दें लेकिन फिर भी अपनी मजबूत पकड़ और रणनीति के चलते नंद गोपाल गुप्ता नंदी ने समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी रईस चंद्र शुक्ला को हराते हुए जीत दर्ज की.आपको बता दें कि मतगणना के दौरान एक ऐसा वक्त भी आया था जब नंदी सपा प्रत्याशी से तकरीबन 7000 मत से पिछड़ गए थे लेकिन अंत में अपने प्रतिद्वंदी को शिकस्त देते हुए 26417 मतों से
जीतने में कामयाब हुए.

ये रही जीत की मुख्य वजह
राजनीतिक विश्लेषकों का कहना है कि नंदी की इस जीत में उनका वन टू वन संपर्क काम आया है,खुद नंदी भी कह चुके हैं कि उनके विधानसभा क्षेत्र में 87963 घर हैं जिनमें से उन्होंने 73139 घरों में वन‌ टू वन संपर्क किया था.इसके अलावा शहर दक्षिणी विधानसभा क्षेत्र व्यापारियों और दुकानदारों का है और नंदी यहां व्यापारियों के नेता और गरीबों के मसीहा के रूप में जाने जाते हैं.इसके अलावा नंद गोपाल गुप्ता नंदी की पत्नी अभिलाषा गुप्ता नंदी इलाहाबाद की सबसे युवा महापौर है.एक मेयर के रूप में उनके द्वारा किए गए काम का फायदा भी इन्हें मिला.इन सबके चलते नंदी को पिछली बार से ज्यादा मत मिले हैं और उन्होंने दोबारा जीत हासिल करने में सफलता प्राप्त की.
(प्रयागराज से प्राची शर्मा की रिपोर्ट)

आपके शहर से (इलाहाबाद)

उत्तर प्रदेश

उत्तर प्रदेश



Source link

more recommended stories