नोएडा लखनऊ के बाद कानपुर में पिटबुल डॉग का आतंक, बछड़े पर किया हमला


कानपुर. कानपुर (Kanpur) में गुरुवार को पिटबुल डॉग (Pitbull Dog) ने एक बछड़े पर हमला बोल दिया, जिसे घंटों की मशक्‍कत के बाद किसी तरह बचाया जा सका. इससे पहले नोएडा और लखनऊ में भी इसी नस्‍ल के कुत्‍ते का आतंक देखा जा चुका है. लखनऊ में कुछ समय पहले जब पिटबुल ने अपने मालिक की मां को जगह जगह काटकर मार डाला था, तब उस घटना से सनसनी फैल गई थी. दरअसल पिटबुल डॉग को बहुत खूंखार माना जाता है. कई देशों ने इन पर बैन लगा रखा है तो कई सोसायटी और रिहाइशी इलाकों में इसके रखने पर प्रतिबंध है.

स्‍थानीय लोगों ने बताया कि कानपुर के सरसैया घाट पर यह पिटबुल डॉग पहले भी कई बार जानवरों को अपना निशाना बना चुका है. यह कुत्‍ता आए दिन हमलावर हो जाता है, लेकिन इसके मालिक के कारण अभी तक इसकी शिकायत नहीं हुई है. स्‍थानीय लोगों ने बताया कि पिटबुल डॉग का मालिक गोल्‍डी नामक युवक है, जिसकी इलाके में दहशत है. इस युवक की दबंगाई के कारण लोगों में डॉग की शिकायत करने की हिम्‍मत नहीं है.

कई देशों में पिटबुल डॉग पर लगा है प्रतिबंध 

इस प्रजाति के कुत्ते वास्तव में अपने लड़ने की आदतों से अमेरिका और दुनिया के कई अन्य देशों में बदनाम हैं. कई देशों में पिटबुल कुत्तों पर प्रतिबंध है. इन देशों में इंग्लैड, फ्रांस, कनाडा, डेनमार्क, फिनलैंड, नॉर्वे, न्यूजीलैंड, इजराइल, मलेशिया आदि शामिल हैं. इसके अलावा बेल्जियम, जापान, जर्मनी, चीन ब्राजील के कुछ हिस्सों में इन पर प्रतिबंध हैं. इन देशों में पिटबुल को पालना, उनका व्यवसाय करना, उनका प्रजनन करने पर पाबंदियां लगाई गई हैं. हालांकि कुत्तों के बारे में धारणा यह है कि वे अपने मालिक के लिए वफादार होते हैं और उन्हें बहुत ही स्नेह देते हैं. वहीं जगंली कुत्तों की कुछ नस्लों के बारे में भी ऐसा कहा जाता है कि वे पालने योग्य नहीं होती हैं. इसके अलावा कुत्तों को रखने की एक वजह उन्हें सुरक्षा कारणों से रखने को भी बताया जाता है. कई कुत्ते केवल पशु प्रेम और स्नेहल साथी के रूप में पाले जाते हैं तो कुछ दुर्लभ विशुद्ध नस्ल के कुत्ते शान दिखाने के लिए पाले जाते हैं.

Tags: Kanpur Dehat, Lucknow city



Source link

more recommended stories