मोटरसाइकिल पर बच्चो को बैठाकर चलाते हैं तो ये नियम हैं आपके लिए, जान ले नही तो…

परिवहन मंत्रालय ने दोपहिया वाहनों पर बाल यात्रियों की सुरक्षा के लिए एक नया प्रस्ताव दिया है। प्रस्ताव में कहा गया है कि यदि मोटरसाइकिल पर 4 साल से कम उम्र का बच्चा बैठा हो तो उसकी अधिकतम गति 40 किमी/घंटा से ज्यादा नहीं होनी चाहिए। यह फैसला बाइक पर बाल यात्रियों की सुरक्षा के लिए लिया गया है।
मंत्रालय की ओर से एक अधिसूचना में यह भी कहा गया है कि मोटरसाइकिल के चालक को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि बच्चे ने हेलमेट पहना हो। अधिसूचना में एक अन्य दिशानिर्देश में उल्लेख किया गया है कि मोटरसाइकिल के चालक को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि चार साल से कम उम्र के बच्चों को पर्याप्त सुरक्षा कवच पहनाया जाना चाहिए ताकि बच्चे की सुरक्षा सुनिश्चित की जा सके।
बच्चों के लिए सुरक्षा कवच एक बनियान के जैसा होता है जिसे पट्टियों की मदद से बाइक चालक अपने कमर में बांध सकता है। यह सुरक्षा कवच दुर्घटना के समय बच्चे को बाइक से गिरने से बचाता है। सुरक्षा हार्नेस के बारे में विस्तार से बताते हुए, मंत्रालय ने बताया कि हार्नेस यह सुनिश्चित करेगा कि बाल यात्री मोटरबाइक के चालक से सुरक्षित रूप से जुड़ा हो।
बता दें कि मोटर वाहन अधिनियम 1989 (Motor Vehicles Act 1989) के तहत मोटर बाइक चालक के साथ पैसेंजर यात्री के लिए भी हेलमेट का इस्तेमाल अनिवार्य है। यही नहीं अब देश में बगैर आईएसआई (ISI) मार्क वाले हेलमेट को बेचना अपराध की संज्ञान में लिया जाएगा।

more recommended stories