Moradabad news: जेल में आत्मनिर्भर बन रहे कैदी, मेटल हैंडीक्राफ्ट की ट्रेनिंग आ रही काम


रिपोर्ट- पीयूष शर्मा

मुरादाबाद की जेल में कैदी और बंदी हुनरमंद बन रहे हैं. कैदी और बंदी मेटल हैंडीक्राफ्ट आर्टिजन का प्रशिक्षण ले रहे हैं तो वहीं महिला कैदी भी पीछे नहीं हैं. महिला कैदी अचार और जेली बनाने का गुण सीख रही हैं. जिला जेल के कैदी और बंदियों को आत्मनिर्भर बनाने के लिए कौशल विकास मिशन के तहत 5 प्रशिक्षण निर्धारित किये गये हैं.

इसके तहत 2 कोर्स का प्रशिक्षण शुरू किया गया है. 60 दिनों तक यह प्रशिक्षण चलेगा. जिसमें हैंडीक्राफ्ट सेक्टर में मेटल हैंडीक्राफ्ट आर्टिजन और महिलाओं को अचार एवं जेली बनाने का तरीका सिखाया जा रहा है. जेल से रिहा होने के बाद यह बंदी और कैदी कौशल विकास के जरिए रोजगार से जुड़ पाएंगे. 60 दिन की ट्रेनिंग पूरी होते ही इन्हें मुख्य विकास अधिकारी के माध्यम से इस प्रशिक्षण का प्रमाणपत्र दिया जाएगा.

वरिष्ठ जेल अधीक्षक वीरेश राज शर्मा ने बताया कि कारागार मंत्री धर्मपाल प्रजापति के निर्देशानुसार जिला कारागार मुरादाबाद में कौशल विकास मिशन के माध्यम से लगभग 5 प्रशिक्षण निर्धारित किए गए हैं. जिसमें दो प्रशिक्षण कामयाब हो गए हैं. पहला मुरादाबाद का वन डिस्ट्रक्ट वन प्रोडक्ट है. इसमें 54 लोगों का प्रशिक्षण चल रहा है. इसके साथ ही महिलाओं का अचार जेम्स और जेली बनाने का प्रशिक्षण चल रहा है. इसमें भी 54 महिलाएं प्रशिक्षण ले रही हैं. इसके बाद वर्मी कंपोस्ट और अन्य विधाओं में प्रशिक्षण दिया जाएगा.

60 दिन की दी जाएगी ट्रेनिंग
राज शर्मा ने कहा कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री और कारागार मंत्री के निर्देशानुसार हम कैदियों का पुनर्वास भी करेंगे. जब बंदी कारागार से छूटें तो वह इस प्रकार ट्रेंड होकर जाएं और उनके पास सर्टिफिकेट रहे, जिससे वह बाहर जाकर रोजगार कर सकें. कौशल विकास मिशन के तहत बंदियों को 60 दिन की ट्रेनिंग दी जाएगी. जिसमें इन्हें मुख्य विकास अधिकारी के द्वारा प्रमाण पत्र भी दिया जाएगा.

Tags: CM Yogi Aditya Nath, Moradabad News, Up news in hindi



Source link