Moradabad: मुरादाबाद से जल्‍द कर सकेंगे हवाई यात्रा, कारोबार को लगेंगे पंख


रिपोर्ट: पीयूष शर्मा

मुरादाबाद. यूपी के मुरादाबाद में हवाई उड़ान शुरू होने पर अभी तक स्थिति साफ नहीं हो सकी है. हवाई अड्डा बन कर तैयार है, लेकिन एनओसी न मिलने से अभी तक लाइसेंस नहीं जारी हुआ है. वहीं, शासन स्तर पर सुरक्षा से जुड़े कुछ आवश्यक निर्माण कार्यों के लिए रिवाइज बजट भी नहीं मिला है. इससे हवाई अड्डे पर जो अंतिम कार्य पूरे किए जाने हैं, वह भी अटके हुए हैं. प्रशासन द्वारा उम्मीद जताई जा रही है कि आने वाले 2 से 3 महीने के अंदर अंदर मुरादाबाद में हवाई यात्रा शुरू कर दी जाएगी.

मुरादाबाद के भदासना गांव में स्थिति हवाई अड्डे का निर्माण कार्य तो पूरा हो चुका है, लेकिन कुछ काम अभी भी शेष है. एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया की ओर से अंतिम बार अधूरे काम को पूरा करने को कहा गया है. यूपी राजकीय निर्माण निगम हवाई अड्डा तैयार कर रहा है. इसी क्रम में कुछ विशेष कार्यों की लिस्ट बनाकर लखनऊ भेजी गई. इसके लिए बजट भी मांगा गया है. हवाई अड्डे के निर्माण में 22 करोड़ रुपये से ज्यादा अब तक खर्च किए जा चुके हैं.

बजट की हो रही मांग, हवाई उड़ान बना सपना

अब 1.92 करोड़ रुपये के बजट की मांग और की गई है. इसमें हवाई अड्डे के अंदर बनी पुलिस चौकी को बाहर शिफ्ट किया जाना है. साथ ही वीआईपी लाउंज के गेट को बाहर की ओर खोला जाएगा. अंदर रनवे की ओर वाला गेट बंद कर दिया जाएगा. एयरपोर्ट अथॉरिटी की ओर से सुरक्षा के लिहाज से इस तरह के कई इंतजाम मुकम्मल कराए जाने जरूरी बताए गए है. निर्माण से जुड़े छिटपुट कार्य पूरा करने के लिए अंतिम कार्यों की सूची में इन्हें शामिल किया गया. इस सबके बीच सबसे अहम यह है कि उड़ान के लिए लाइसेंस जारी होना है. वन एवं पर्यावरण समेत तीन विभागों की एनओसी के बाद लाइसेंस मिलने की औपचारिकता पूरी होगी. इसके लिए भी इंतजार करना पड़ रहा है. इसके चलते मुरादाबाद से हवाई उड़ान अभी तक सपना ही बना हुआ है.

हवाई पट्टी की सभी तैयारियां पूरी

जिला अधिकारी शैलेन्द्र कुमार सिंह ने न्यूज़ 18 लोकल को बताया कि हवाई पट्टी में कई कार्य थे. जो राज्य सरकार द्वारा किये जाने थे. बहुत सारे कार्य कंप्लीट हो चुके हैं. अब कमर्शियल लाइसेंस के लिए डीजीसीए से परमिशन लेनी होती है. जिसके लिए हम लोगों की तरफ से आवेदन दिया जा चुका है. डीजीसीए ने जो जो रिक्वायरमेंट बनाई थी. हम लोगों ने लगभग सभी पूरी कर दी है. हमें उम्मीद है कि हमें जल्दी कमर्शियल फ्लाइट का लाइसेंस मिल जाएगा. पैनल स्टेटमेंट गवर्नमेंट के लेवल से उसको ऑपरेशन करने की दिशा में टेंडर की प्रक्रिया की जा रही है. तो हम उम्मीद करते हैं कि बहुत ही जल्द अगले 2 से 3 महीने में इसे ऑपरेट करने की स्थिति में आ जाएंगे.

हरी झंडी का है हो रहा इंतजार

शैलेन्द्र कुमार सिंह ने कहा कि डीजीसीए ने जो रिक्वायरमेंट बताई थीं. जैसे जो सिक्योरिटी फोर्स अंदर लगी थी, उसको बाहर शिफ्ट करना. वायर फेंसिंग सही करने के साथ सुरक्षा का प्रॉपर प्रबंध करना, सेंट्रल एयर कंडीशन की व्यवस्था करना और लैंडस्कैपिंग समेत कई व्यवस्थाएं पूरी कर ली गई हैं. इसका परीक्षण डीजीसीए द्वारा किया जा रहा है. जैसे ही वहां से हरी झंडी मिलती है. हम लोग इसे ऑपरेशन करने की स्थिति में होंगे.

Tags: Moradabad News, UP news



Source link