मऊ में दो सहायक शिक्षक बर्खास्त, फर्जी डिग्री के सहारे 15 साल से उठा रहे थे वेतन

अखिलेश यादव ने छोड़ी आजमगढ़ से सांसदी, ओम बिरला को सौंपा इस्तीफा, करहल से बने रहेंगे विधायक


अभिषेक राय
मऊ. उत्तर प्रदेश के मऊ जिले (Mau News) में फर्जी डिग्री के सहारे नौकरी कर रहे दो सहायक अध्यापकों को बीएसए (BSA) ने बर्खास्त कर दिया है. इसके साथ ही बीईओ को उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने के निर्देश दिए है. दोनों अध्यापक 15 सालों से फर्जी प्रमाणपत्र के सहारे वेतन उठा रहे थे, लेकिन विभागीय सत्यापन के दौरान उनका यह फर्जीवाड़ा पकड़ में आ गया.

यहां बड़रांव ब्लॉक क्षेत्र के भिखारीपुर स्थित प्राथमिक विद्यालय के सहायक अध्यापक पद पर धर्मानंद भारती की तैनाती 2009 में हुई थी. वह कूटरचित शैक्षिक तथा प्रशिक्षण प्रमाण पत्र के आधार पर नौकरी कर रहे थे. इसी तरह फतहपुर मंडाव ब्लॉक क्षेत्र के उच्च प्राथमिक विद्यालय बहादुरपुर के सहायक अध्यापक के पद पर रामलाल यादव 2005 से नौकरी कर रहे थे.

ये भी पढ़ें- अखिलेश यादव ने छोड़ी आजमगढ़ से सांसदी, ओम बिरला को सौंपा इस्तीफा, करहल से बने रहेंगे विधायक

उन दोनों की शिकायत मिलने पर विभाग ने सहायक अध्यापकों के शैक्षिक तथा प्रशिक्षण प्रमाण पत्र का सत्यापन कराया. सत्यापन में धर्मानंद भारती का शैक्षिक तथा बीएड प्रमाणपत्र फर्जी निकला, जबकि रामलाल यादव का बीएड प्रमाण पत्र फर्जी मिला. बीएसए ने दोनों को अपना पक्ष प्रस्तुत करने के कई अवसर दिए, लेकिन वह बचाव में कोई साक्ष्य प्रस्तुत नहीं कर सके. इस पर सोमवार को बीएसए ने दोनों सहायक अध्यापकों को बर्खास्त कर दिया.

बता दें कि अब तक जिले के परिषदीय विद्यालयों में बर्खास्त होने वाले शिक्षकों की संख्या 55 तक पहुंच गई है. बीएसए डॉ. संतोष कुमार सिंह ने कहा कि प्राथमिक विद्यालय में तैनात सहायक सहायक अध्यापक धर्मानंद भारती तथा उच्च प्राथमिक विद्यालय में तैनात रामलाल यादव को बर्खास्त कर दिया गया है. एफआईआर दर्ज कराने के लिए खंड शिक्षा अधिकारियों को निर्देश दे दिया गया है.

आपके शहर से (मऊ)

उत्तर प्रदेश

उत्तर प्रदेश

Tags: Mau news, Teacher job, Uttar pradesh news



Source link

more recommended stories