MEERUT: जानिए कैसे रिफ्यूजियों ने दिलाई मेरठ के बल्ले को वैश्विक पहचान, हर खिलाड़ी की है पहली पसंद


रिपोर्ट : विशाल भटनागर

मेरठ. स्टेट लेवल का क्रिकेट हो, नेशनल हो या फिर इंटरनेशनल लेवल के वर्ल्ड कप क्रिकेट का ही आयोजन ही क्यों न हो, मेरठ स्पोर्ट्स मार्केट का जिक्र न हो, ऐसा हो ही नहीं सकता. दरअसल, देश ही नहीं बल्कि विदेश तक में मेरठ स्पोर्ट्स इंडस्ट्री अपनी विशेष पहचान रखती है. यहां के बल्ले से खेलना विदेशी खिलाड़ियों की भी पहली पसंद रहती है. इतना ही नहीं, विशेष ऑर्डर देकर विदेशी खिलाड़ी यहां से बल्ले बनवाते हैं. इस बार 16 अक्टूबर से शुरू हुए टी-20 वर्ल्ड कप को लेकर स्पोर्ट्स मार्केट में काफी उत्साह है. स्पोर्ट्स मार्केट में स्पोर्ट्स संबंधित सामग्री बड़ी मात्रा में तैयार की जा रही है.

दरअसल सूरजकुंड स्पोर्ट्स मार्केट में क्रिकेट सामग्री की बात की जाए तो 1947 में बंटवारे के समय पाकिस्तान सियालकोट को छोड़कर भारत आए रिफ्यूजी द्वारा बल्ले सहित अन्य प्रकार की स्पोर्ट्स सामग्री का निर्माण किया जाता है. ये इतने कुशल कारीगर हैं कि उनके बनाए गए बल्ले लगभग 60 देशों में सप्लाई हो रहे हैं. इन्हीं की वजह से मेरठ की स्पोर्ट्स मार्केट को भी विशेष पहचान मिली हुई है.

75 से लेकर 20 हजार तक के बैट

सूरजकुंड स्पोर्ट्स एसोसिएशन के अध्यक्ष अनुज कुमार सिंघल ने News18 local से कहा कि T-20 वर्ल्ड कप को लेकर भी मार्केट में काफी उत्साह है. देखा जाता है कि जब भी इस तरह के मैच होते हैं तो बड़ी मात्रा में बल्ले और बॉल आदि की डिमांड रहती है. सिंघल कहते हैं कि यहां पर बल्ले की क्वॉलिटी पर विशेष ध्यान दिया जाता है. यही कारण है कि देश ही नहीं बल्कि विदेशी खिलाड़ी भी मेरठ में बने बल्ले पर अधिक विश्वास करते हैं. बल्ले की कीमत की अगर बात की जाए तो 75 रुपए से लेकर 20 हजार रुपए तक का बल्ला मार्केट में उपलब्ध रहता है. विशेष ऑर्डर पर बनने वाले बल्ले की कीमत काफी ज्यादा होती है.

हाथ की कारीगरी है विशेष पहचान

आज के दौर में हर कोई आधुनिक मशीन का उपयोग कर जल्द से जल्द अपना कार्य पूरा करना चाहता है. लेकिन इस बदलते दौर में भी अगर बल्ले बनाने की विधि की बात करें तो आज भी हाथ के बने बल्ले को ज्यादा तवज्जो दी जाती है. भले ही मशीन से जो काम मिनटों में हो जाता है, उसे हाथ से करने में घंटों लगता हो. फिर भी मेरठ के कारीगर बल्लों की फिनिशिंग हाथ से करने में ज्यादा प्राथमिकता देते हैं.

इन खिलाड़ियों की पसंद हैं मेरठ के बल्ले

मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर भी मेरठ की नामी कंपनी के बल्ले से धूम मचा चुके हैं. इतना ही नहीं अंतरराष्ट्रीय क्रिकेटर रिकी पोंटिंग से लेकर भारतीय क्रिकेटर महेंद्र सिंह धोनी, विराट कोहली, युवराज सिंह, रोहित, सुरेश रैना, ऑलराउंडर भुवनेश्वर कुमार सहित ऐसे कई क्रिकेट खिलाड़ी हैं, जो मेरठ में विशेष रूप से अपने बल्ले तैयार करवाते हैं. सुरेश रैना और ऋषभ पंत भी परतापुर मेरठ की स्पोर्ट्स इंडस्ट्री से ही बल्ले लेने आए थे. तब उन्होंने अपने अनुसार ही कारीगर से बैट की फिनिशिंग कराई थी.

Tags: Meerut news, Sports news, UP news



Source link