लोकसभा उपचुनाव में माफिया मुख्तार अंसारी के परिवार की हुई एंट्री, बेटा अब्बास पहुंचा आजमगढ़


आजमगढ़. आजमगढ़ में होने जा रहे लोकसभा उपचुनावों में आखिर माफिया मुख्तार अंसारी के परिवार ने एंट्री ले ही ली. मुख्तार का बेटा अब्बास अंसारी शुक्रवार को आजमगढ़ पहुंचा और मुबारकपुरा विधानसभा क्षेत्र में समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी के समर्थन में प्रचार प्रसार किया. इससे पहले अब्बास ने अरबी यूनिवर्सिटी अल अल्जामीअतुल अशरफिया में पहुंचकर हाफिज ए मिल्लत की मजार पर चारद पोशी की. उल्लेखनीय है कि कई नामों पर चर्चा चलने के बाद समाजवादी पार्टी ने आजमगढ़ से धर्मेंद्र यादव को अपनी पार्टी का प्रत्याशी बनाया था.
जब से धर्मेंद्र यादव को प्रत्याशी बनाया गया था तभी से वे चर्चा में चल रहे थे. फिलहाल वे मंदिरों और मस्जिदों में जाने को लेकर भी सुर्खियों में बने हुए थे.

सपा के बड़े नेता भी मैदान में
समाजवादी पार्टी के कद्दावर नेता प्रोफेसर रामगोपाल यादव अपने कूनबे के साथ पिछले कुछ दिनों से आजमगढ़ में डेरा डाले हुए हैं. वे रणनीति तैयार कर स्थानीय नेताओं और इलाहाबाद विश्वविद्यालय के छात्र संघ के नेताओं को गांव-गांव और घर-घर प्रचार-प्रसार करने के साथ ही प्रतिदिन सुबह और शाम को मॉनिटरिंग कर रहे है. वहीं सपा ने अपने मुस्लिम वोट बैंक को बचाने के लिए महाराष्ट्र प्रांत के अध्यक्ष अबू आसिम से लेकर गाजीपुर के विधायकों को भी मैदान में उतार दिया और सपा प्रत्याशी धर्मेन्द्र यादव के पक्ष में माहौल बनाने की कोशिश की जा रही है.

समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव के सीट छोड़ने के बाद आजमगढ़ में लोकसभा का उपचुनाव हो रहा है. उपचुनाव में भारतीय जनता पार्टी और समाजवादी पार्टी के नेताओं ने चुनाव जीतने के लिए एक तरफ जहां अपनी पूरी ताकत झोंक दिया है, वहीं दूसरी तरफ भगवान के चरणों में पहुंचकर जीत का आर्शिवाद मांगा जा रहा है.
दरअसल बुनकर बाहुल्य मुबारकपुर कस्बे में चार दिनों पूर्व समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी धर्मेर्न्द्र यादव पहुंचे. जनसंपर्क के दौरान उन्होंने मजार पर चादर चढ़ाया, लेकिन वहीं से चंद कदम की दूरी स्थित रामजानकी मंदिर में नहीं पहुंचे. जिसको लेकर भारतीय जनता पार्टी ने सवाल खड़ा कर समाजवादी पार्टी और उनके प्रत्यशी धर्मेन्द्र यादव पर तीखा हमला करना शुरू किया. यही नहीं छोटी-छोटी बैठकों में भी बीजेपी ने इस मुद्दे को हवा देना शुरू किया. जिसके बाद अपने को घिरता देख धर्मेन्द्र यादव गुरूवार की शाम को आचानक मुबारकपुर विधानसभा के ही शेरपुर कुटी पर धमक पड़े और भगवान भोलेनाथ की पूजा अर्चना किया और जीत का आर्शीवाद मांगा.

Tags: Azamgarh news, Loksabha Elections, UP politics



Source link

more recommended stories