लखनऊ यूनिवर्सिटी में श्रीलंकाई छात्र का जलवा, डांस-ड्रामा के जरिए स्‍टूडेंट्स को सिखा रहा इंग्लिश


रिपोर्ट- अंजलि सिंह राजपूत

लखनऊ. क्या आपने कभी किसी को कथक डांस के जरिए इंग्लिश सिखाते हुए देखा है. अगर नहीं तो आज आपको मिलवाते हैं लखनऊ यूनिवर्सिटी (Lucknow University) के ऐसे छात्र से जो अन्य छात्र-छात्राओं को डांस करते हुए इंग्लिश सिखा रहे हैं. श्रीलंका के रहने वाले छात्र नुवान तीकशना लियनगे लखनऊ यूनिवर्सिटी से एमए (एजुकेशन) की पढ़ाई कर रहे हैं. कमाल की बात तो यह है कि वह अपनी अनोखी कला के जरिए सबके चहेते भी बन गए हैं.

आपको बता दें कि नुवान तीकशना लियनगे ड्रामा, म्यूजिक और डांस के जरिए छात्र छात्राओं को इंग्लिश के कठिन से कठिन शब्द भी चुटकियों में सिखा रहे हैं. करीब दो घंटे की क्लासेस में वह अष्टनायिका (नाट्यशास्त्र) का सहारा लेते हैं. अष्टनायिका में फीलिंग और इमोशंस का जो कॉन्बिनेशन होता है, उसको इन्होंने शब्दों में पिरो दिया है.

यूपी के छात्र छात्राओं के लिए है यह क्लास
तीकशना की है यह क्लास स्नातक (Undergraduate) के छात्र छात्राओं के लिए ही है. करीब 3 दिन हुए हैं इस क्लास को शुरू हुए. इसे शुरू करने से पहले उन्‍होंने इसके लिए आवेदन मांगे थे, जिसके तहत करीब 120 से भी ज्यादा छात्र-छात्राओं ने आवेदन किया था, जिसमें अभी सिर्फ 30 छात्र-छात्राओं को ही मौका दिया गया है. यह क्लास पूरी तरह से निशुल्क है. इस क्लास को शुरू करने में डीन एजुकेशन डिपार्टमेंट डॉ. तृप्ता त्रिवेदी ने भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है.

मनोरंजन के साथ सीखें इंग्लिश
इस क्लास में लगातार आ रही छात्रा वैभवी श्रीवास्तव ने कहा,’पहली बार ऐसा हुआ है कि पढ़ाई में मजा आ रहा है. अगर सभी क्लासेस इसी तरह होने लग जाए तो पढ़ाई बेहद दिलचस्प हो जाएगी और पढ़ाई का स्तर ही एकदम बदल जाएगा.’

वहीं, छात्रा शालिनी गौतम कहती हैं, ‘पहली बार ऐसा हो रहा है कि खेल-खेल में मनोरंजन के साथ इंग्लिश सीखने का मौका मिला है. इंग्लिश आसानी से डांस,म्यूजिक और ड्रामा के जरिए सीखने का मौका मिल रहा है.’

Lucknow : नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति के तहत लखनऊ यूनिवर्सिटी ने कई पाठ्यक्रमों में किया बदलाव, जानें मामला

2010 में श्रीलंका से भारत आए तीकशना
नुवान तीकशना लियनगे 2010 में श्रीलंका से भारत आ गए थे. वहीं 2020 में लखनऊ विश्वविद्यालय से इन्होंने एमए की पढ़ाई शुरू की. यह साल इनका अंतिम साल है. आपको यह जानकर भी हैरानी होगी कि यह छात्र कथक का एक बेहतरीन डांसर है, जिसे 15 साल का अनुभव है. इसके अलावा नुवान इंग्लिश लैंग्वेज के टीचर भी हैं. वह कथक, डांस और अपनी इंग्लिश स्पीकिंग के अनुभव को मिलाकर छात्र छात्राओं को इंग्लिश सिखा रहे हैं. वह कहते हैं कि छात्र-छात्राओं को इंग्लिश समझ में तो आती है, लेकिन वो बोल नहीं पाते हैं,जिसकी वजह है उनमें आत्मविश्वास की कमी. ऐसे में छात्र-छात्राओं के अंदर आत्मविश्वास कैसे पैदा करें, ताकि वो बिना डरे इंग्लिश बोल सकें. इस क्लासेस का मुख्य उद्देश्य यही है. उन्होंने बताया कि उन्हें कथक डांस में 15 साल का अनुभव है. इसके अलावा नुवान तीकशना लियनगे आईसीसीआर (Indian Council for Cultural Relations) के स्कॉलर भी हैं.

Tags: Lucknow latest news, Sri lanka



Source link

more recommended stories