लेखपाल भर्ती परीक्षा 2022: कान में ब्लूटूथ, पॉकेट में माइक, VIDEO में देखें कैसे हो रही थी नकल


वाराणसी. उत्तर प्रदेश अधीनस्थ सेवा चयन आयोग द्वारा आयोजित लेखपाल भर्ती परीक्षा में साल्वर गैंग ने सेंधमारी की. वाराणसी समेत अलग अलग शहरों से 21 साल्वरों और अभ्यर्थियों को गिरफ्तार किया गया  है. वाराणसी में चार अभ्यर्थी पकडे गए हैं. धांधली सामने आने  के बाद एसटीएफ की पड़ताल जारी है. वाराणसी के उदय प्रताप कालेज से पकडे़ गए अभ्यर्थी पुष्पेंद्र से एसटीएफ ने कई घंटे पूछताछ की.

वाराणसी एसटीएफ को पूछताछ में मिले कई अहम सुरागों से उस कोड का पता चला, जिसके जरिये इतनी बड़ी परीक्षा में सेंधमारी का प्लान बना था. पूछताछ में पुष्पेंद्र ने बताया कि 30 जुलाई को प्रयागराज में सरगना विजयकान्त पटेल से उसकी मुलाक़ात हुई थी. 10-10 लाख में अभ्यर्थियों से पूरा सौदा तय हुआ था. मुलाकात के बाद 10 हजार रुपये लेकर दो इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस दिए गए थे. तय हुआ था कि पहली ब्लूटूथ डिवाइस को कान में लगाना था. जबकि दूसरे डिवाइस को सिम कार्ड लगाकर अपने हाथ में कार्बन पेपर के साथ बांधना था.

चार कोड में बुना गया था धांधली का पूरा तानाबाना
परीक्षा कक्ष में इस डिवाइस के जरिये चार सीरीज के कोड से बातचीत होनी थी. ये कोड थे ए, बी, सी और डी. ए का मतलब एपल, बी फॉर बॉय, सी फॉर कैट, डी फॉर डॉग. डॉग बोलने का मतलब डी से था. बता  दें कि वाराणसी से चार मुन्नाभाई गिरफ्तार हुए हैं. जिनमे पुष्पेंद्र कुमार, कृष्णा  यादव, दिलीप गुप्ता और  राजनारायण यादव शामिल हैं. परीक्षा खत्म होने से पहले ही चारों एसटीएफ की गिरफ्त में आ गए. वाराणसी के तीन थानों में धोखाधड़ी, सार्वजनिक परीक्षा अधिनियम और आईटी एक्ट की धाराओं में मुक़दमा दर्ज हुआ है.

ये भी पढ़ें… UP लेखपाल भर्ती परीक्षा: कान में ब्लूटूथ डिवाइस लगाकर कर रहे थे नकल, STF ने 23 ‘मुन्नाभाई’ दबोचे

एसटीएफ ने किया था सॉल्वर गैंग का भंडाफोड़
बता दें कि रविवार को प्रदेश के 501 परीक्षा केंद्रों पर आयोजित की गई लेखपाल भर्ती मुख्य परीक्षा के दौरान एसटीएफ ने बड़ी कार्रवाई करते हुए नक़ल करवाने वाले और सॉल्वर बैठाने वाले गैंग का भंडाफोड़ किया है. यूपी एसटीएफ ने लेखपाल भर्ती परीक्षा के दौरान इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस के जरिए नकल करने वाले अभ्यर्थियों और सॉल्वरों समेत 23 लोगों को गिरफ्तार किया है. सभी गिरफ्तारियां लखनऊ, कानपुर, वाराणसी, प्रयागराज, मेरठ, गोंडा और बरेली से की गई है.

एडीजी एसटीएफ अमिताभ यश ने बताया कि प्रदेश के अलग-अलग जिलों में ब्लूटूथ डिवाइस के माध्यम से नकल करवाई जा रहा था. कुल 23 आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है. गैंग के सरगना से पूछताछ की जा रही है, ताकि गोरखधंधे में शामिल अन्य लोगों की शिनाख्त हो सके. उन्होंने बताया कि सभी के खिलाफ अलग-अलग जिलों में मुकदमा पंजीकृत किया गया है.

Tags: UP Lekhpal Recruitment, UP STF, Varanasi news, Varanasi Police



Source link

more recommended stories