कोरोना के मामले में आई कमी, बिहार में फिर से खुलेगी सभी शिक्षण संस्थानें, शिक्षा विभाग ने कर दी घोषणा

PATNA : देश के कई राज्यों में कोरोना के मामले में कमी आने के बाद अपने शिक्षण संस्थानें आज से खोले जाने की अनुमति दे दी गई है। ऐसे में अब बिहार में लगभग एक माह से बंद स्कूल, कोचिंग और कॉलेज को फिर से शुरू करने की तैयारी शुरू कर दी गई है। इस बात के संकेत शिक्षा विभाग की तरफ से भी दिए गए हैं। फिलहाल, कोरोना गाइडलाइन के कारण छह फरवरी तक सभी शिक्षण संस्थान बंद रखने के निर्देश हैं, लेकिन बताया जा रहा है कि इसके बाद स्कूलों को बंद रखने का आदेश वापस लिया जा सकता है।
7 फरवरी से खुलेंगे स्कूल, कोचिंग

माना जा रहा है कि आगामी सात फरवरी से सभी शिक्षण संस्थानों को फिर से खोल दिया जाएगा। संक्रमण की मौजूदा दर कायम रही या क्षीण पड़ी तो प्रदेश के सभी सरकारी व निजी स्कूल, कॉलेज, कोचिंग व अन्य शैक्षणिक संस्थानों के 7 फरवरी से खोल देने की प्रबल संभावना है। बता दें बिहार में कोरोना रिकवरी दर 88 फीसदी है, जो कि देश के दूसरे राज्यों की तुलना में सबसे अधिक है। ऐसे में सरकार शिक्षण संस्थानों को खोले जाने की अनुमति दे सकती है। हालांकि इसको लेकर अंतिम फैसला राज्य सरकार द्वारा गठित आपदा प्रबंधन समूह की बैठक में लिया जाएगा।
माना जा रहा है कि इस समूह की बैठक मुख्य सचिव की अध्यक्षता में 5 फरवरी को होगी क्योंकि कोरोना संक्रमण को लेकर राज्य सरकार का वर्तमान दिशा-निर्देश 6 फरवरी तक के लिए प्रदेश में लागू है। जिसके तहत तमाम शैक्षणिक संस्थान तो बंद हैं लेकिन उनके दफ्तर 50 फीसदी उपस्थिति के साथ संचालित हो रहे हैं। सूत्रों के मुताबिक राज्य सरकार का शिक्षा विभाग बच्चों के लर्निंग लॉस को देखते हुए प्राथमिक से लेकर उच्च माध्यमिक तक के विद्यालयों को अब पूरी तरह खोल देने के पक्ष में है। यदि 7 फरवरी से विद्यालय संचालित होते हैं तो 30 दिनों बाद तथा नए साल में पहली बार स्कूली बच्चे बस्ता लेकर विद्यालयों में जायेंगे।