Kanpur Violence: मायावती बोलीं- कानपुर हिंसा पुलिस और खुफिया तंत्र की विफलता, सरकार को दी ये नसीहत


लखनऊ. बहुजन समाज पार्टी प्रमुख मायावती ने कानपुर में हुई हिंसा और पथराव की घटना को लेकर शनिवार को बड़ा बयान दिया है. उन्‍होंने यूपी सरकार से जाति, धर्म तथा दलगत राजनीति से ऊपर उठकर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की है. बसपा सुप्रीमो ने कहा कि कानपुर में दंगा व हिंसा भड़कना अति-दुःखद, दुर्भाग्यपूर्ण और चिन्ताजनक है. यह पुलिस और खुफिया तंत्र की विफलता का संकेत है. यूपी सरकार को समझना होगा कि शान्ति व्यवस्था के अभाव में प्रदेश में निवेश व यहां का विकास कैसे संभव होगा?

इसके साथ मायावती ने कहा कि सरकार इस घटना की धर्म, जाति व दलगत राजनीति से ऊपर उठकर स्वतंत्र व निष्पक्ष तथा उच्च स्तरीय जांच कराकर दोषियों के विरूद्ध सख्त कानूनी कार्रवाई करे, ताकि ऐसी घटना आगे न होने पाए. वहीं, मायावती ने लोगों से शान्ति व कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए भडकाऊ भाषणों आदि से बचने की भी अपील की है.

जुमे की नमाज के बाद दो समुदायों के बीच हुआ पथराव
गौरतलब है कि कानपुर में शुक्रवार को जुमे की नमाज के बाद दो समुदाय के लोग आमने-सामने आ गए और उन्होंने एक-दूसरे पर पथराव किया. इस दौरान गोलीबारी के साथ बमबाजी भी हुई थी. वहीं, पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि भारतीय जनता पार्टी की प्रवक्ता नूपुर शर्मा द्वारा हाल ही में टीवी पर एक कार्यक्रम में चर्चा के दौरान पैगंबर मोहम्मद के खिलाफ कथित रूप से आपत्तिजनक टिप्पणी किए जाने के विरोध में जब एक समूह के लोगों ने जबरन दुकानें बंद कराने का प्रयास किया तो दोनों पक्ष आमने सामने आ गए और उन्होंने ना सिर्फ एक-दूसरे पर बम फेंके बल्कि गोलियां भी चलाईं. जबरन दुकानें बंद कराने का प्रयास कर रहे लोगों की पुलिस के साथ भी झड़प हुई. इस दौरान पुलिस को भीड़ को तितर-बितर करने के लिए लाठी चार्ज करना पड़ा.

अब तक 500 लोगों के खिलाफ मामले दर्ज
पुलिस ने कानपुर में हिंसा और पथराव की घटना के एक दिन बाद शनिवार को 500 लोगों के खिलाफ मामले दर्ज किए हैं. हिंसा की घटनाओं में 40 लोग घायल हो गए थे. शहर के हिंसा प्रभावित इलाकों में कड़ी सुरक्षा व्यवस्था की गयी है और शांति का माहौल है. अपर पुलिस आयुक्त (कानून व्यवस्था) आनंद प्रकाश तिवारी ने बताया कि घटना के संबंध में 18 लोगों को गिरफ्तार किया गया है और कुछ लोगों को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया गया है. इलाकों में स्थिति शांतिपूर्ण है और हम चौबीसों घंटे निगरानी कर रहे हैं.

यूपी के अपर पुलिस महानिदेशक (कानून व्यवस्था) प्रशांत कुमार ने चेतावनी दी है कि हिंसा में शामिल लोगों पर गैंगस्टर एक्ट के तहत मामला दर्ज किया जाएगा और उनकी संपत्तियों को जब्त या ध्वस्त कर दिया जाएगा.

Tags: BSP chief Mayawati, Kanpur news, Kanpur Police



Source link

more recommended stories