Kanpur Violence: कानपुर हिंसा के मास्‍टरमाइंड हयात जफर हाशमी की तलाश में जुटी पुलिस, विवादों से है नाता


कानपुर/लखनऊ. यूपी के कानपुर शहर में दो पक्षों के बीच हुए बवाल के बाद पुलिस की धरपकड़ और छापेमारी की कार्रवाई जारी है. इस बीच कानपुर पुलिस को एमएमए जौहर फैन्स एसोसिएशन के अध्यक्ष हयात जफर हाशमी की तलाश में जुट गई है, जिसे इस हिंसा का मास्‍टरमाइंड बताया जा रहा है. बता दें कि हाशमी समेत कई नेताओं ने बीजेपी नेत्री नूपुर शर्मा के पैगंबर मोहम्मद को लेकर दिए गए बयान के विरोध में जुलूस निकाला था और इस दौरान वे अन्य समुदाय के सदस्यों से भिड़ गए. इस दौरान हुई झड़पों में कई लोग घायल हुए हैं जिनमें आधा दर्जन से अधिक गंभीर रूप से घायल हैं. इसके अलावा कई कारों के साथ बाइक और स्‍कूटी को भी नुकसान पहुंचा है.

जानकारी के मुताबिक, कानपुर हिंसा का मास्टरमाइंड हयात जफर हाशमी पिछले कुछ सालों में कई सम्पत्ति अर्जित कर चुका है. वह सरकारी कोटे के तहत घर में राशन कंट्रोल चलाता है. यही नहीं, इससे पहले हाशमी ने मकान खाली कराने के लिए अपनी बहन और मां को उकसा कर कानुपर डीएम कार्यालय में आग लगावाई थी. जबकि इलाज के दौरान दोनों की मौत हुई थी. इसके अलावा हयात जफर हाशमी सोशल मीडिया पर काफी सक्रिय रहता है और इससे पहले भी वह कई बार लोगों को उकसाकर उपद्रव करवा चुका है. यही नहीं, सीएए और एनआरसी प्रदर्शन के दौरान भी वह काफी सक्रिय था.

कानपुर हिंसा के पीछ PFI कनेक्शन-सूफी खानकाह एसोसिएशन
वहीं, सूफी खानकाह एसोसिएशन ने कानपुर हिंसा पर बड़ा बयान दिया है. सूफी खानकाह एसोसिएशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष सूफी कैसर हसन मजीदी ने कहा कि कानपुर हिंसा के पीछ PFI कनेक्शन है. इसके साथ उन्‍होंने सरकार से इस मामले में उच्चस्तरीय जांच कराने के की मांग की है. उन्‍होंने कहा कि
पीएफआई ने स्थानीय अपराधियों की मदद से हिंसा फैलाई है.

अब तक 18 को पुलिस ने किया गिरफ्तार
जुमे की नमाज के बाद हुए बवाल के बाद परेड, नई सड़क और यतीमखाना समेत कई इलाकों में 25 थानों की फोर्स के साथ पीएसी तैनात कर दी गई है. अब तक 18 लोगों को गिरफ्तार किया गया है. यह कार्रवाई सीसीटीवी फुटेज के आधार पर करने की बात कही जा रही है.

इस मामले पर उत्तर प्रदेश के एडीजी लॉ एंड ऑर्डर प्रशांत कुमार ने कहा कि घटना को शासन ने बहुत गंभीरता से लिया है. इस वक्‍त 12 कंपनी और एक प्लाटून पीएसी कानपुर भेजी गई है. इसके साथ कुछ सीनियर अधिकारी भी भेजे जा रहे हैं. उपद्रव करने वालों की पहचान की जा रही है. अब तक 18 लोग गिरफ्तार किए जा चुके हैं. वीडियो फुटेज के आधार पर आगे की कार्रवाई हो रही है. उपद्रव करने साजिश रचने वालों के खिलाफ गैंगस्‍टर एक्‍ट की कार्रवाई करने के साथ उनकी संपत्ति को जब्त या ध्वस्त किया जाएगा.

Tags: CAA-NRC, Kanpur news, Kanpur Police



Source link

more recommended stories