कानपुर हिंसा को लेकर सरकार सख्‍त, अब तक 18 गिरफ्तार, आरोपियों पर लगेगा गैंगस्टर एक्ट, संपत्ति होगी कुर्क

Kanpur Violence, Kanpur News, Kanpur Police, UP Police, Yogi Adityanath, Prashant Kumar,कानपुर हिंसा, Gangster Act कानपुर पुलिस,


लखनऊ/कानपुर. यूपी के कानपुर में जुमे की नमाज के बाद परेड, नई सड़क और यतीमखाना समेत कई इलाकों में हुए बवाल के बाद पुलिस फोर्स तैनात कर दी गई है. वहीं, इस मामले में कानपुर पुलिस ने अब तक 18 लोगों को गिरफ्तार किया है. इस घटना पर उत्तर प्रदेश के एडीजी लॉ एंड ऑर्डर प्रशांत कुमार ने कहा कि एक पक्ष द्वारा दुकानें बंद करने का प्रयास किया जिसका दूसरे पक्ष के लोगों ने विरोध किया. इसके बाद दोनों पक्षों में टकराव और पत्थरबाजी हुई.

इसके साथ प्रशांत कुमार ने कहा कि घटना को शासन ने बहुत गंभीरता से लिया है. इस वक्‍त 12 कंपनी और एक प्लाटून पीएसी कानपुर भेजी गई है. इसके साथ कुछ सीनियर अधिकारी भी भेजे जा रहे हैं.

अब तक 18 लोग गिरफ्तार
उत्तर प्रदेश के एडीजी लॉ एंड ऑर्डर के मुताबिक, उपद्रव करने वालों की पहचान की जा रही है. अब तक 18 लोग गिरफ्तार किए जा चुके हैं. वीडियो फुटेज के आधार पर आगे की कार्रवाई हो रही है. उपद्रव करने साजिश रचने वालों के खिलाफ गैंगस्‍टर एक्‍ट की कार्रवाई करने के साथ उनकी संपत्ति को जब्त या ध्वस्त किया जाएगा.

कानपुर हिंसा में एक पुलिसकर्मी समेत कई लोग घायल हुए हैं. वहीं, कई कार और बाइक को नुकसान पहुंचा है.

पुलिस कमिश्नर विजय प्रकाश मीणा ने कही ये बात
वहीं, कानपुर पुलिस कमिश्नर विजय प्रकाश मीणा ने कहा कि कानपुर बवाल के आरोपियों की संपत्ति पर न सिर्फ बुलडोजर चलेगा बल्कि गैंगस्टर एक्‍ट की कार्रवाई भी की जाएगी. पुलिस के मुताबिक, इस घटना में मुकेश बाथम, संजय शुक्ला, उत्तम गौड़, मंजीत यादव, राहुल त्रिवेदी और अमर बाथम के रूप में घायलों की पहचान हुई है, जिन्‍हें इलाज के लिए अस्‍पताल में भर्ती कराया गया है.

जानें पूरा मामला
कानपुर के एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि जुमे की नमाज के बाद दो समुदायों के सदस्य आमने-सामने आ गए और उन्होंने एक-दूसरे पर ईंटों से पथराव किया. इस दौरान गोलीबारी भी हुई. इसके साथ उन्होंने बताया कि अल्पसंख्यक समुदाय के लोग हाल ही में टीवी पर बहस के दौरान भाजपा प्रवक्ता नुपुर शर्मा द्वारा पैगंबर मुहम्मद के खिलाफ की गई कथित अपमानजनक टिप्पणी को लेकर नाराज थे और इसी के विरोध में वो इलाके की दुकानें बंद कराने का प्रयास कर रहे थे.

पुलिस अधिकारी ने कहा बताया कि एमएमए जौहर फैन्स एसोसिएशन के अध्यक्ष हयात जफर हाशमी सहित कुछ स्थानीय नेताओं ने दुकानों को बंद करने का आह्वान किया था. इन नेताओं ने पैगंबर मोहम्मद के कथित अपमान के खिलाफ जुलूस निकाला था और इस दौरान वे अन्य समुदाय के सदस्यों से भिड़ गए. इस दौरान हुई झड़पों में कई लोग घायल हुए हैं जिनमें आधा दर्जन से अधिक गंभीर रूप से घायल हैं.

वहीं, कानपुर की जिलाधिकारी नेहा शर्मा ने बताया कि एक समुदाय विशेष के सदस्य विरोध में सड़क पर उतर आए और हिंसा में शामिल हो गए. कई लोग गंभीर रूप से घायल हो गए और उन्हें चिकित्सा सहायता के लिए भेजा गया. प्रभावित क्षेत्रों में भारी पुलिस बल तैनात किया गया है. स्थिति पर कड़ी निगरानी रखने और आगे हिंसा न हो यह सुनिश्चित करने को लेकर सख्त निर्देश जारी किए गए हैं.

Tags: Kanpur news, Kanpur Police



Source link

more recommended stories