कानपुर हिंसा: अचानक करोड़पति बना हाजी वशी कैसे बनने वाला है गैंगस्टरों का गैंग लीडर, जानें


कानपुर: कानपुर हिंसा में क्राउड फंडिंग का आरोपी और 500 करोड़ से ज्यादा की संपत्तियों का मालिक बिल्डर हाजी वशी आखिर कैसे गैंगस्टरों का गैंग लीडर बनने वाला है, यह अपने आप में एक किस्सा है. कानपुर सहित उत्तर प्रदेश, कोलकाता, मुंबई और दुबई तक हाजी वशी की संपत्तियों का बोलबाला है, लेकिन 3 जून को ही कानपुर में हिंसा के बाद जैसे ही क्राउड फंडिंग में बिल्डर हाजी वशी का नाम आया, मानो उसकी तकदीर ही पलट गई और अब पुलिस कार्रवाई पूरी कर जल्द ही आरोपी बिल्डर वशी को गैंगस्ट्स का गैंग लीडर घोषित किया जाएगा.

कानपुर हिंसा में पुलिस जांच में सबसे पहले क्राउड फंडिंग के आरोपी हाजी वशी की कुंडली खोली गई और पुलिस ने जांच को पूरा कर हाजी वशी पर गैंगस्टर एक्ट लगाया. साथ ही पुलिस ने मुख्तार बाबा, अकील खिचड़ी, शफीक आदि पर भी गैंगस्टर की कार्रवाई की है. मगर अब बताया जा रहा है कि पुलिस 10 अन्य आरोपियों पर भी जल्द ही गैंगस्टर की कार्रवाई करेगी, जिसमें इस लिस्ट में हमजा, अफजल कुरैशी, बाबर और सबलू के नाम शामिल होंगे. सूत्रों की मानें तो पुलिस ने यह भी तैयारी की है कि हाजी वशी के गिरोह को पंजीकृत करा कर डिस्ट्रिक्ट गैंग में शामिल कराया जाएगा और हाजी वशी को इस गैंग का गैंग लीडर घोषित किया जाएगा.

दरअसल, हाजी वशी के बारे में कहा जाता है कि पिछले 5 से 7 सालों में उसने कानपुर शहर के चमनगंज में कंगन और जाजमऊ इलाके में इमारतों का जाल बनाया. उसमें तकरीबन ढाई सौ के आसपास बिल्डिंगों में कहीं पार्टनरशिप तो कहीं डायरेक्ट शामिल होकर बिल्डिंगों का निर्माण करवाया. इसमें उसको इस कदर मुनाफा हुआ कि देखते ही देखते स्कूटी से चलने वाला हाजी वशी करोड़ों का मालिक बन गया. इस कारोबार में उसके साथ शहर के कई बड़े नाम जुड़े हुए थे, जिसकी वजह से उसके सरकारी विभागों में काम नहीं रुकते थे और इसके लिए वह मोटी रकम खर्च करता था.

कैसे हुई थी हिंसा
दरअसल, कानपुर में मामला तब बिगड़ा जब शुक्रवार की नमाज के बाद कुछ लोगों ने नूपुर शर्मा के पैगंबर मोहम्मद को लेकर दिए गए बयान के विरोध में बेकनगंज थाना क्षेत्र के नई सड़क इलाके में दुकानें बंद कराने की कोशिश की. वहीं, दूसरे पक्ष ने इसका विरोध किया. इसके बाद दोनों पक्षों में मारपीट और पत्थरबाजी की घटना हुई. इसके बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने हालात को काबू किया. इस घटना में पुलिसवाले भी घायल हुए थे. इसके अलावा कई कारों के साथ बाइक और स्‍कूटी को भी नुकसान पहुंचा है. कानपुर हिंसा का मुख्य आरोप हयात जफर हाशमी लगा है.

Tags: Kanpur news



Source link

more recommended stories