‘कागज’ को लेकर फंसते दिख रहे सलमान खान और सतीश कौशिक, कोर्ट पहुंचा मामला

सलमान खन के खिलाफ कोर्ट में शिकायत. (File)
सलमान खन के खिलाफ कोर्ट में शिकायत. (File)


सलमान खन के खिलाफ कोर्ट में शिकायत. (File)

Kagaj Movie 2021 Controversy: सलमान खान (Sakma Khan) स्टारर फिल्म कागज को लेकर विवाद थमने के नाम नहीं ले रहा है, फिल्म पर दलितों का अपमानित, कोर्ट की अवमानना और निर्देशक पर धोखाधड़ी करने के आरोप लगे है.

आजमगढ़. जिंदा मृतक की कहानी पर बनी फिल्म ‘कागज‘ पर विवाद (Film Kagaj Controversy) थमने का नाम नहीं ले रहा है. फिल्म के रिलीज के पहले से ही लालबिहारी निर्माता और निर्देशक पर धोखाधड़ी का आरोप लगाते रहे हैं. फिल्म रिलीज हो चुकी है तो उन्होंने फिल्म के कुछ सीन पर नाराजगी जताते हुए सलमान खान (Salman Khan) और सतीश कौशिक (Satish Kaushik) के खिलाफ न्यायालय में परिवाद दाखिल किया है. इसमें निर्माता और निर्देशक पर ‘अछूत’ शब्द का प्रयोग कर दलितों को अपमानित करने तथा न्यायालय व अन्य सरकारी संस्थाओं के खिलाफ मुर्दाबाद के नारे लगवाकर कोर्ट की अवमानना का आरोप लगाया है.

निजामाबाद क्षेत्र के खलीलाबाद गांव निवासी लालबिहारी को चचेरे भाई और पट्टीदारों ने 30 जुलाई 1976 को अभिलेखों में मृत घोषित कराकर सारी सम्पत्ति पर कब्जा कर लिया था. लालबिहारी ने खुद को जिंदा साबित करने के लिए लंबी लड़ाई लड़ी. इसके बाद उन्हें 30 जून 1994 को अभिलेखों जिंदा किया गया. साल 2003 में सतीश कौशिक पटकथा लेखक इम्तियाज हुसैन के साथ आजमगढ़ आए और लाल बिहारी से मिलकर उनके जीवन पर फिल्म बनाने की बात कही.

जानें निर्देशक पर लग रहे क्या आरोप

लालबिहारी का कहना है कि साल 2020 में फिल्म की शूटिंग हुई और जनवरी 2021 में फिल्म ओटीटी प्लेटफार्म पर रिलीज हुई. आरोप है कि फिल्म निर्देशक ने उनके साथ एग्रीमेंट में धोखा किया है. यहीं नहीं वे वास्तव में मजदूर बुनकर हैं लेकिन कहानी में उन्हें बैंडबाजा वाला बना दिया गया. फिल्म में ‘अछूत’ शब्द का प्रयोग कर दलितों को अपमानित किया गया. शव यात्रा की सीन में न्यायालय, सरकारी संस्थाओं के खिलाफ मुर्दाबाद के नारे लगाए गए. यह न्यायालय की अवमानना है. उन्होंने बताया कि उनका करार सतीश कौशिक से हुआ था. लेकिन फिल्म के निर्माता फिल्म स्टार सलमान खान हैं. सतीश कौशिक ने निर्देशन किया है. दलितों को अपमानित करने, कोर्ट की अवमानना करने और धोखाधड़ी के मामले में न्यायालय में परिवाद दाखिल किया गया है.






Source link