कृषि कानून पर सरकार से बातचीत के लिए नरेश टिकैत ने रखी शर्त, कहा- मरते दम तक जारी रहेगा आंदोलन

मुजफ्फरनगर में किसान पंचायत के दौरान भारतीय किसान यूनियन के नरेश. टिकैत
मुजफ्फरनगर में किसान पंचायत के दौरान भारतीय किसान यूनियन के नरेश. टिकैत


मुजफ्फरनगर में किसान पंचायत के दौरान भारतीय किसान यूनियन के नरेश. टिकैत

Farm Laws: तीन कृषि कानूनों को वापस लिए जाने और एमएसपी के लिए कानूनी गारंटी देने की मांग के साथ हजारों किसान कई दिनों से दिल्ली की सीमाओं पर प्रदर्शन कर रहे हैं.

हापुड़(उप्र). भारतीय किसान यूनियन (भाकियू) के राष्ट्रीय अध्यक्ष नरेश टिकैत ने मंगलवार को कहा कि केंद्र सरकार की मनमानी नहीं चलेगी. उन्होंने कहा कि अगर केंद्र सरकार तीनों कृषि कानूनों को खत्म करे तो किसान बातचीत को तैयार हैं.

नरेश टिकैत यहां बीबीनगर जाते वक्त कुछ देर के लिए गांव धनौरा में भाकियू के मंडल सचिव ज्ञानेश्वर त्यागी के आवास पर आए और मीडिया से बातचीत की. उन्होंने कहा कि पहले सरकार तीनों कानूनों को वापस ले और न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) पर कानून बनाए, इन शर्तों के पूरा होने तक किसान पीछे नहीं हटेंगे.

नरेश टिकैत ने कहा कि यह आंदोलन अनिश्चितकालीन है, जो मरते दम तक जारी रहेगा. उन्होंने दावा किया कि तीनों कृषि कानून किसानों के हक में नहीं है और यह बात सरकार भी जानती है, लेकिन अपनी जिद के चलते वह किसानों की बात सुनने को तैयार नहीं है.

टिकैत ने दावा किया कि भाजपा में ऐसे कई नेता हैं जो इस समस्या को सुलझा सकते हैं, लेकिन उन पर भी दबाव बनाया हुआ है. उन्होंने कहा कि सरकार अपनी जिद छोड़ दे क्योंकि किसान बातचीत करने के लिए तैयार हैं.

उन्होंने यह भी कहा कि कृषि कानूनों को सरकार को वापस लेना ही होगा, यह शर्त माने जाने तक किसान पीछे नहीं हटेंगे. उन्होंने कहा, ‘सरकार किसानों को कई नाम दे रही है, जो किसानों के लिए अपमान की बात है, लेकिन सरकार यह भूल गई है कि किसानों का शोषण करने वाला कभी सफल नहीं हुआ है. इसका परिणाम उसे भुगतना ही पड़ेगा.’






Source link

more recommended stories