झांसी: बुंदेलखंड यूनिवर्सिटी में फिर उठने लगी छात्र संघ चुनाव की मांग, जानिए क्या है कैंपस के छात्रों की राय


रिपोर्ट: शाश्वत सिंह

झांसी: बुंदेलखंड विश्वविद्यालय में लंबे समय से बंद हुए छात्र संघ चुनावों को बहाल करने की मांग एक बार फिर उठने लगी है. पिछले कई सालों से विश्वविद्यालय में छात्र संघ के चुनाव नहीं हुए हैं. चुनाव को दोबारा शुरू करवाने के लिए सभी छात्र संगठन एक साथ एक मंच पर आ गए हैं. अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (ABVP), समाजवादी छात्र सभा, नेशनल स्टूडेंट यूनियन ऑफ इंडिया (NSUI) और आम आदमी पार्टी की यूथ विंग के पदाधिकारियों ने एक साथ मिलकर छात्र संघ चुनाव संघर्ष समिति का गठन किया है. इस समिति के तहत छात्र संघ चुनाव को बहाल करने की मांग उठाई जा रही है.

छात्र संघ चुनाव हैं आवश्यक
एनएसयूआई के जीशान ने कहा कि विश्वविद्यालय राजनीति की नर्सरी होती है. विश्वविद्यालय से निकले छात्र नेता ही भविष्य में अच्छे और सफल नेता बन पाते हैं. छात्र संघ विश्वविद्यालय के लिए बहुत आवश्यक है. अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के अखिल पटेल ने बताया कि छात्र संघ चुनाव को बहाल करने के लिए सभी छात्र संगठनों ने आपसी मतभेद को दूर रखकर एक साथ काम करने का फैसला लिया है. समाजवादी छात्र सभा के अभिषेक यादव ने कहा कि अभी अधिकारी छात्रों की समस्याओं को गंभीरता से नहीं लेते हैं लेकिन अगर छात्र संघ बन जाता है तो उन पर एक दबाव बना रहेगा.

चुनावों से फैल सकती है अराजकता?
एक तरफ जहां छात्र नेता चुनाव को लेकर उत्साहित हैं तो वहीं आम विद्यार्थियों की इस पर राय बंटी हुई है. एक छात्रा ने कहा कि विश्वविद्यालय के शिक्षकों और अधिकारियों द्वारा हमारी सभी समस्याओं का समाधान कर दिया जाता है. ऐसे में छात्र संघ की कोई आवश्यकता नहीं दिखती है. एक अन्य छात्र ने कहा कि अगर चुनाव होंगे तो अराजकता ज्यादा फैलेगी और अभी विद्यार्थियों में जो समानता का भाव है, वह खत्म हो जाएगा. एक अन्य विद्यार्थी ने कहा कि छात्र संघ चुनाव होने से हमें एक मजबूत नेता मिलेगा, जो हमारी मांगों को प्रभावी ढंग से उठा सकेगा.

Tags: Jhansi news, Uttar pradesh news



Source link

more recommended stories