Jhansi: महिलाओं ने उठाया तिरंगे को हर घर तक पहुंचाने का बीड़ा, रोजाना बना रही हैं हजारों झंडे


रिपोर्ट: शाश्वत सिंह

झांसी. देश आजादी का 75वां वर्ष मना रहा है. इस आजादी के अमृत वर्ष को यादगार बनाने के लिए हर घर तिरंगा कार्यक्रम शुरू किया गया है. इस कार्यक्रम के तहत हर घर की छत पर तिरंगा लहराने का आह्वान लोगों द्वारा किया जा रहा है. झांसी में इस अभियान को सफल बनाने का बीड़ा यहां की महिलाओं ने उठाया है. कर्मठ स्वयं सहायता समूह की महिलाएं दिन रात तिरंगा बना रही हैं. ये महिलाएं झंडे बनाने के काम को महज काम नहीं बल्कि देश सेवा के रूप में देखती हैं.

झंडे बनाने के साथ ही ये महिलाएं देश भक्ति के गीत भी गाती रहती हैं. उनका कहना है कि इससे उनके अंदर उर्जा का संचार होता है. ये महिलाएं सुबह 6 बजे से ही तिरंगा बनाने के काम में लग जाती हैं. समूह की एक महिला ने बताया कि काम तो वह लोग अक्सर करती रहती हैं, लेकिन इस बार जो काम कर रही हैं, उससे उन्हें गर्व की अनुभूति हो रही है. हमारे हाथों से बना तिरंगा जब घर की छतों पर लहराएगा तो हमें बहुत अच्छा लगेगा.

हर महिला को मिला है तिरंगा बनाने का लक्ष्य
झंडे बनाने का यह कार्य जहां एक तरफ राष्ट्रभक्ति की भावना को जागृत कर रहा है तो वहीं दूसरी ओर महिलाओं को रोजगार भी दे रहा है. महिलाओं को एक झंडे बनाने के लिए 25 रुपए दिए जाते हैं. स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को झंडे बनाने का पूरा कच्चा माल जिला प्रशासन द्वारा मुहैया कराया जाता है.

कर्मठ स्वयं सहायता समूह की अरुणा शर्मा ने बताया कि हर महिला को 2 हजार तिरंगे बनाने के लक्ष्य दिया गया है. महिलाओं ने अभी तक कुल 20 हजार तिरंगे बनाए हैं. समूह की अनीता चौरसिया ने बताया कि तिरंगे बनाने से जुड़ा हर काम झांसी में ही किया जा रहा है. कपड़े पर पेंटिंग से लेकर उसकी कटिंग तक का काम महिलाएं स्वयं करती हैं. इन सभी झंडों को नागरिकों को बांटा जाएगा.

Tags: Jhansi news, Tricolor flag



Source link

more recommended stories