IPS Ajay Mishra: ‘जिला गाजियाबाद’ की छवि बदलने आ गए नए पुलिस कमिश्नर अजय कुमार मिश्रा, जानें इनके बारे में सबकुछ


गाजियाबाद. दिल्ली-एनसीआर में आने वाले यूपी के दो बड़े जिले गौतमबुद्धनगर और गाजियाबाद (Ghaziabad) में अब कमिश्नरेट प्रणाली लागू हो चुका है. यूपी कैडर के 2003 बैच के आईपीएस अधिकारी अजय कुमार मिश्रा (IPS Ajay Kumar Mishra) ने बुधवार को गाजिायाबाद के पहले पुलिस कमिश्नर (Police Commissioner) के तौर पर काम शुरू कर दिया है. बता दें कि इसी साल सितंबर महीने में केंद्रीय प्रतिनियुक्ति से लौटने के बाद मिश्रा पुलिस मुख्यालय लखनऊ में वेटिंग फॉर पोस्टिंग थे. ऐसे में सवाल यह उठता है कि अजय कुमार मिश्रा ‘जिला गाजियाबाद’ की छवि को आने वाले दिनों में कितना बदल पाएंगे? मिश्रा के सामने आने वाले दिनों में कई तरह की चुनौतियां होंगी, जिससे उनको पार पाना ही होगा. सीएम योगी आदित्यनाथ ने उनकी काबिलियत और क्षमता को देखते हुए ही गाजियाबाद जैसे महत्वपूर्ण जिले की कमान सौंपी है. आइए जानते हैं कि अजय कुमार मिश्र के पुराने रिकॉर्ड और उनके परिवार के बारे में.

अजय कुमार मिश्रा के पास लंबा प्रशासनिक अनुभव है. अजय कुमार मिश्रा के पिता भी यूपी पुलिस में थे. मूल रूप से यूपी के बलिया के रहने वाले मिश्रा का अधिकांश समय वाराणसी में ही बीता. यूपी के कई जिलों में मिश्रा ने सेवाएं दी हैं. इससे पहले एसएसपी कानपुर, एसएसपी वाराणसी, एसपी सुल्तानपुर, एसपी बागवत और एसपी एटीएस रह चुके हैं. मिश्रा केंद्रीय प्रतिनियुक्ति के दौरान सात सालों तक इंटेलिजेंस ब्यूरो (IB) में रहे हैं, जिसका फायदा उनको गाजियाबाद जैसे संवेदनशील जिला में मिल सकता है.

आपके शहर से (दिल्ली-एनसीआर)

उत्तर प्रदेश

दिल्ली-एनसीआर

उत्तर प्रदेश

दिल्ली-एनसीआर

गाजियाबाद में कानून व्यवस्था, साइबर अपराध और ट्रैफिक मैनेजमेंट को और दुरुस्त करने पर विशेष ध्यान दिया जाएगा- CP

‘जिला गाजियाबाद’ की छवि अब बदलेगी?
अजय मिश्रा ने कार्यभार ग्रहण करने के बाद कहा है कि उनकी प्राथमिकता व्यवस्था में पारदर्शिता लाने की होगी. इसके अलावा कानून व्यवस्था, साइबर अपराध और जिले की ट्रैफिक मैनेजमेंट को और दुरुस्त करने पर विशेष ध्यान दिया जाएगा. पुलिस कमिश्नरेट बनने के बाद गाजियाबाद जिले को 9 सर्कल में बांटा गया है. हर सर्कल को चाक-चौबंद किया जाएगा. आने वाले दिनों में फोर्स की संख्या का बढ़ना भी तय है, लेकिन अभी इसकी शुरुआत मौजूदा सिस्टम और संसाधन के साथ ही करना होगा.’

आईपीएस अजय कुमार मिश्रा के सामने चुनौतियां
गौरतलब है कि गाजियाबाद में 2021 की तुलना में हत्या और रेप जैसे मामले इस साल बढ़े हैं. गाजियाबाद जिले की बिगड़ती कानून व्यवस्था को लेकर कई पुलिस अधिकारी पहले नप चुके हैं. यहां संगठित अपराध यूपी के दूसरे जिलों की तुलना में ज्यादा होते हैं. योगी राज में यहां अधिकारी नप चुके हैं. जिले के नए पुलिस कमिश्नर के सामने गली-मोहल्लों में होने वाली लूट और छिनैती की घटनाओं के साथ जिले में बढ़ते साइबर अपराध पर रोक लगाने की गंभीर चुनौती होंगी.

IPS AJAY KUMAR MISHRA, POLICE CONTABLE SON, VARANASI, ZILA GHAZIABAD, who is first commissioner of ghaziabad, Who is ajay kumar mishra, Ghaziabad News, Ghaziabad First CP Ajay Kumar Mishra, Ghaziabad Commissionerate, Ajay kumar mishra ips, ajay kumar mishra ghaziabad police commissioner, Ajay kumar mishra first cp ghaziabad,अजय कुमार मिश्रा, पुलिस कमिश्नर गाजियाबाद, जिला गाजियाबाद क्राइम, गाजियाबाद में अपराध, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, वाराणसी, पुलिस कॉन्सटेबल का बेटा बना गजियाबाद का कमिश्नर, गाजियाबाद के पहले पुलिस कमिश्नर कौन हैं, अजय कुमार मिश्रा गाजियाबाद कमिश्नर,

गाजियाबाद में तीन पुलिस जिलों लोनी, हिंडन और सिटी का गठन होगा. (फाइल फोटो)

अजय कुमार मिश्रा को ही क्यों मिली जिम्मेदारी?
बता दें कि अजय कुमार मिश्रा को अक्टूबर 2016 में डीआईजी बनाया गया था. साल 2021 में उन्हें आईजी के रूप में पदोन्नत किया गया. गाजियाबाद में कार्यभार संभालने के बाद अजय मिश्रा ने कहा है कि हम गाजियाबाद आयुक्त कार्यालय का विकेंद्रीकरण करेंगे. तीन पुलिस जिलों लोनी, हिंडन और सिटी का गठन करेंगे. प्रत्येक जिले का नेतृत्व डीसीपी-रैंक के अधिकारी करेंगे. यातायात और अपराध विभाग भी एक डीसीपी के नेतृत्व में होंगे. महिलाओं और बच्चों के खिलाफ अपराध की जांच सूची में सबसे ऊपर होगी. साथ ही अपराध सिंडिकेट के खिलाफ भी कड़ी कार्रवाई की जाएगी.

ये भी पढ़ें: गौतमबुद्धनगर जिले में तैनात हुईं कड़क IPS लक्ष्मी सिंह, जानें अपराध पर नियंत्रण करने का उनका स्टाइल और पुराना रिकॉर्ड

कुलमिलाकर नए पुलिस कमिश्नर अजय कुमार मिश्रा के सामने जिले में लूटपाट करने वाले गिरोहों, अवैध शराब, गांजा, चरस, अफीम और अन्य तरह के मादक पदार्थों की तस्करी, जुआ सट्टे पर लगाने की गंभीर चुनौती होगी. इसके साथ ही महिला अपराध को रोकना भी प्राथमिकताओं में सबसे ऊपर रहेगा. इसके साथ ही नए-नए तरीके अपनाकर कमाई करने वाले गिरोह जैसे लोन देने के नाम पर ठगी, नौकरी देने के नाम पर ठगी करने वाले गिरोहों पर भी लगाम लगाना होगा.

Tags: CM Yogi Adityanath Ghaziabad, Ghaziabad News, Ghaziabad Police, IPS Officer, Law and order, UP police



Source link