हावड़ा दिल्ली मार्ग पर स्पेशल ट्रेन हादसे का शिकार होने से बची, बोगियों से अलग होकर 200 मीटर दूर चला गया इंजन


इटावा. उत्तर प्रदेश के इटावा जिले में हावड़ा दिल्ली रेलमार्ग पर सरायभूपत और जसवंतनगर के बीच बरौनी नई दिल्ली क्लोन स्पेशल यात्री रेलगाडी हादसे का शिकार होने से बाल-बाल बच गई. असल में क्लोन स्पेशल आज तड़के दो हिस्सो में बंट गई, जिसके बाद रेल विभाग मे हडंकप मच गया. उत्तर मध्य रेलवे के जनसंपर्क अधिकारी अमित सिंह ने आज यहॉ क्लोन स्पेशल के दो हिस्सों में बंटने की पुष्टि करते हुए बताया कि 02563 बरौनी नई दिल्ली स्पेशल यात्री रेलगाडी सराय भूपत जसवंतनगर रेलवे स्टेशन के बीच दो हिस्सों में बंट गई.

इस घटना के बाद रेलवे विभाग की तकनीकी टीमों को युद्वस्तर पर काम पर लगाया गया, जिसके बाद क्लोन स्पेशल को नई दिल्ली के लिए रवाना कर दिया गया है. उन्होंने बताया कि रेलविभाग क्लोन एक्सप्रेस के दो हिस्सों में बंटने के वाकये को लेकर जांच की प्रकिया अपनाने जा रही है, इसके लिए विभागीय स्तर पर तैयारी की जा रही है. आज तड़के सुबह तीन बजकर 14 मिनट पर सराय भूपत रेलवे स्टेशन से क्लोन एक्सप्रेस के पार होते ही 3 बजकर 18 मिनट पर रेलगाडी दो हिस्सों में बंट गई. इंजन करीब दो सौ मीटर आगे चला गया जब कि अन्य कोच पीछे रह गये.

रेल अधिकारियों ने ऐसे रोका बड़ा हादसा
जानकारी के मुताबिक, तीन बजकर 18 मिनट से लेकर 5 बजकर 37 मिनट पर रेलवे के विभिन्न स्तर के अधिकारियो ने क्लोन एक्सप्रेस को जोड कर दिल्ली के लिए रवाना कर दिया. इससे पहले रेलगाड़ी के दो हिस्सों में बंटने की सूचना मिलने पर रेलवे अफसरों में अफरातफरी मच गई और आननफानन ओवर हेड इलेक्ट्रिक सप्लाई बंद करके पीछे आ रही ट्रेनों को रोका गया ताकि ट्रैक पर छूटे कोचों से टक्कर न होने पाये. उनकी इस सूझबूझ के चलते एक बड़ा हादसा टल गया. हादसे के समय कोच में सभी यात्री गहरी नींद में सो रहे थे.

इंजन अलग और बाकी ट्रेन 200 मीटर दूर रह गई
बरौनी-नई दिल्ली क्लोन स्पेशल के दो कोच के बीच की कपलिंग खुलने से ज्यादातर कोच पीछे छूट गए और कुछ कोच इंजन से जुड़े हुए आगे निकल गए. हादसा होते ही चालक और गार्ड ने तत्काल रेलवे स्टेशन पर सूचना दी. इस पर कंट्रोल को सूचित किया गया, हादसे की जानकारी मिलते ही अफरातफरी मच गई. ट्रेन में सवार ज्यादातर यात्री सो रहे थे और कोच में झटका लगने पर रुकने का अहसास होते ही कुछ यात्री जाग गए. उन्हें ट्रेन दो भागों में बंटने की जानकारी हुई तो भयभीत हो गए. ओवर हेड इलेक्ट्रिक सप्लाइ बंद होने से ट्रैक पर ट्रेनें जहां की तहां खड़ी हो गईं. करीब 200 मीटर से अधिक आगे पहुंची ट्रेन को वापस पीछे की ओर लिया गया और छूटे हुए कोच से जोड़ गंतव्य के लिए रवाना किया गया.

जैसे-तैसे गाड़ियों को रोका गया दूसरे स्टेशनों पर
इस दौरान अप लाइन पर सुपरफास्ट सहित मालगाड़ी ट्रेनों को सराय भूपत इटावा इकदिल रेलवे स्टेशन पर रोका गया. एक घंटे बाद अप ट्रैक चालू हो सका. इस दौरान हमसफर एक्सप्रेस, महाबोधी एक्सप्रेस और पूर्वा एक्सप्रेस देरी से रवाना हो सकीं. जिनको इटावा और आसपास के रेलवे स्टेशनों पर रोका गया. इस हादसे की सूचना मिलने के बाद रेलवे सुरक्षा बल पोस्ट के प्रभारी गजेंद्र पाल, सहायक इंस्पेक्टर मुकेश विश्वकर्मा समेत राजकीय रेलवे पुलिस के जवान मौके पर पहुंच गये. जिन्होंने सुरक्षात्मक तौर पर अपनी अपनी डयूटी निभाई.

Tags: Etawah news, Train accident



Source link

more recommended stories