गाजियाबाद में इलेक्ट्रिक बसों का किराया बढ़ा, किराया बढ़ाने का यह है कारण


गाजियाबाद. जिले में इलेक्ट्रिक बसों का सफर महंगा हो गया है. परिवहन निगम ने किराये में कमी के आदेश को वापस लेने का फैसला लिया है. इस फैसले के बाद लोगों को दोबारा से पुराना किराया ही चुकाना होगा. अभी न्‍यूनतम से अधिकतम किराये में पांच रुपये की कमी की गयी थी. किराये में कमी प्रयोग के तौर पर की गयी थी, लेकिन प्रयोग सफल नहीं हुआ है, इस वजह से किराया बढ़ा दिया गया है.

कौशांबी से मुरादनगर रूट पर संचालित ई बसों को यात्री बेहद कम मिल रहे थे. अधिकारियों ने फीडबैक के आधार पर इस रूट किराए में पांच रुपये की कटौती करने का निर्णय लिया था. करीब 15 दिन पूर्व ट्रायल के तौर पर किराया कम किया गया. न्यूनतम किराये से लेकर अधिकतम किराये में 5 रुपये की कमी की गई. इस तरह न्‍यूनतम किराया 5 रुपये और अधिकतम 35 रुपये कर दिया गया था. इसके बाद करीब 15 दिन इसकी मॉनीटरिंग की गई, लेकिन यह प्रयोग सफल नहीं हुआ. अधिकारियों का कहना है कि ट्रायल में किराया कम होने की वजह से यात्रियों की संख्या नहीं बढ़ी. इन बसों के मेंटीनेंस में अधिक खर्च होता है, इसलिए कम किराये में घाटा हो रहा था और इसका कोई लाभ नहीं दिखा.

ये भीपढ़ें: गाजियाबाद रेलवे स्‍टेशन को एयरपोर्ट जैसा बनाने की तैयारी, जानें मंत्रालय की योजना

परिवहन विभाग के अधिकरियों के अनुसार यात्रियों की संख्या में कुछ इजाफा हुआ है, लेकिन इसकी वजह किराया नहीं रहा. शादी विवाह आदि कारणों से यात्रियों की संख्‍या बढ़ी थी. ई-बसों के संचालन के लिए गठित एसपीवी के सीईओ एके सिंह के आदेश पर फिर से किराया 5 रुपये बढ़ा दिया गया है.

ये भी दिल्ली-एनसीआर का पहला रोपवे बनेगा गाजियाबाद में, ये होगा रूट

ई बसों का रूट

आनंद विहार से मुरादनगर, दूरी 33 किमी.

आनंद विहार से एएलटी सेंटर गाजियाबाद, दूरी20 किमी.

दिलशाद गार्डन से लालकुआं, दूरी 25किमी.

गोविंदपुरम पुलिस लाइन से नोएडा सिटी सेंटर, दूरी 25 किमी.

लोनी टीला मोड़ भोपुरा से नया अड्डा गाजियाबाद दूरी 16 किमी.

Tags: Electric Bus, Ghaziabad News



Source link

more recommended stories