एक बैतूल MP में और दूसरा UP के आगरा में होगा,पढ़िए बच्ची के जन्म का मज़ेदार किस्सा

Betul-बच्ची अब स्वस्थ है और अपने घर लौट रही है.
Betul-बच्ची अब स्वस्थ है और अपने घर लौट रही है.


Betul-बच्ची अब स्वस्थ है और अपने घर लौट रही है.

Betul : बैतूल जिला अस्पताल में 18 फरवरी के दिन जन्मी एक बच्ची के नाम के चर्चे पूरे जिले में हो रहे हैं. ऐसा इसलिए क्योंकि इस बच्ची का नाम ही बैतूल (Betul)रखा गया है

बैतूल.लोग अपने बच्चों के एक से बढ़कर एक नाम रखते हैं. लेकिन बैतूल (Betul) जिला चिकित्सालय में जन्मी एक बच्ची का नाम उसके परिवार ने बैतूल ही रख दिया यानि एक बैतूल मध्यप्रदेश में है तो दूसरा अब उत्तरप्रदेश के आगरा (Agara) में होगा.आखिर क्यों बैतूल जिले का नाम इस बच्ची के परिवार को इतना पसंद आया ये जानने के लिए पढ़िए ये खबर.

मज़ेदार संयोग
बैतूल जिला अस्पताल में 18 फरवरी के दिन जन्मी एक बच्ची के नाम के चर्चे पूरे जिले में हो रहे हैं. ऐसा इसलिए क्योंकि इस बच्ची का नाम ही बैतूल रखा गया है.दरअसल इस बच्ची के बैतूल में जन्म से एक संयोग जुड़ा है.आगरा में रहने वाली कुसमा बघेल जीएनएम की परीक्षा देने 17 फरवरी को बैतूल आई थीं.वो गर्भवती थीं. बैतूल में 18 फरवरी को उन्हें लेबर पेन शुरू हो गया. कुसुमा को फौरन जिला अस्पताल में भर्ती किया गया जहां उन्होंने बेटी को जन्म दिया.बच्ची को जन्म देने के दूसरे ही दिन कुसमा प्रेक्टिकल एग्जाम देने भी गईं.

सब खुशबैतूल में बच्ची का जन्म और जीएनएम की परीक्षा भी सरलता से हो गई.बस इसी खुशी में कुसमा और उसके पति ने बेटी का नाम बैतूल रख दिया. कुसमा के सुरक्षित प्रसव और उसे पेपर देने के लिए पर्याप्त स्वास्थ्य सुविधाएं देने के लिए जिला अस्पताल के स्टाफ ने भी खासी मेहनत की.अब जबकि कुसमा ने बेटी का नाम ही बैतूल रख दिया है तो अस्पताल के स्टाफ सहित पूरा जिला इस फैसले पर गर्व महसूस कर रहा है.

दो बैतूल
अब ये बच्ची जहां भी रहेगी बैतूल जिले का नाम इसके साथ चलेगा. कुसमा अपनी बेटी को लेकर वापस आगरा जा रही हैं.यानि अब एक बैतूल मध्यप्रदेश में तो एक उत्तरप्रदेश के आगरा में होगा.






Source link