Dussehra 2022: लखनऊ में रावण का ‘सर तन से होगा जुदा’, जानिए इसकी वजह


रिपोर्ट : अंजलि सिंह राजपूत

लखनऊ. यूपी की राजधानी लखनऊ में इस साल ‘सर तन से जुदा’ रावण का अंत किया जाएगा. लखनऊ की सबसे बड़ी ऐशबाग रामलीला समिति की ओर से यह फैसला लिया गया है. इस बार ‘राष्ट्रद्रोह उत्पन्न करने वाली ताकतों का विनाश’ और ‘कट्टरपंथी मानसिकता’ जैसे थीम पर रावण दहन किया जाएगा. रावण के पुतले पर इन तीनों थीम को लिखकर चिपकाया जाएगा.

बता दें कि लखनऊ की रामलीला समिति हर साल समाज में मौजूद एक बुराई का अंत करती है. इससे पहले रामलीला समिति ने भ्रष्टाचार और लव जिहाद जैसी थीम को चुनकर रावण दहन किया था. इन पर अब कानून भी बन चुके हैं, इसीलिए योगी आदित्‍यनाथ सरकार का फिर से एक बार ध्यान खींचने के लिए रामलीला समिति ने फैसला लिया है कि तीनों बुराई का अंत किया जाएगा. बुराई पर अच्छाई की जीत होगी. रावण दहन शाम को करीब 7:30 बजे के बाद किया जाएगा. मुख्य अतिथि के तौर पर पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा के साथ ही कई अन्‍य मंत्रियों को इसमें आमंत्रित किया गया है.

इन बुराइयों का अंत जरूरी
ऐशबाग रामलीला समिति के सचिव आदित्य द्विवेदी ने बताया कि सर तन से जुदा जैसी बुराई समाज में सबसे ज्यादा लोगों को परेशान कर रही है. यही कारण है कि इन तीनों थीम को चुना गया है. इसके अलावा कट्टरपंथी मानसिकता और राष्ट्रद्रोह उत्पन्न करने वाली ताकतों के विनाश पर भी रावण दहन किया जाएगा. साथ ही उन्‍होंने बताया कि इस साल सिर्फ रावण का दहन किया जाएगा. कुंभकरण और मेघनाथ का दहन नहीं होगा, क्योंकि उन दोनों ने रावण को समझाने की कोशिश की थी. वो दोनों मान चुके थे कि सीताराम स्वयं लक्ष्मीनारायण हैं, उनसे जीतना संभव नहीं है. इसके बावजूद रावण नहीं माना था और रावण के कारण ही उसके कुल का विनाश हो गया था.

Tags: Dussehra Festival, Lucknow news, Ravana Dahan, Ravana effigy



Source link

more recommended stories