Durga Puja 2022: बिहार में ‘अयोध्या श्रीराम मंदिर’ पंडालों की धूम, गोपालगंज में तैयार हो रहा भव्य मॉडल


रिपोर्ट: धनंजय कुमार

गोपालगंज: पश्चिम बंगाल की ही तरह बिहार में दशहरा धूमधाम से मनाया जाता है. कोरोना के चलते दो साल से दुर्गा पूजा बहुत ही भव्य तरीके से नहीं बनाई जा सके. इस बार इसकी भरपाई पूरे बिहार में होती दिख रही है. खास बात यह है कि इस बार जहां पूजा पंडालों को कहीं पर अक्षरधाम मंदिर का स्वरूप दिया जा रहा है, तो कहीं पर राजा मानसिंह का किला बनाया जा रहा है. इसी तरह गोपालगंज जिले में बहिनइस बार शारदीय नवरात्र काफी धूमधाम के साथ सभी 14 प्रखंडों में मनाया जा रहा है. प्रतिमाओं के साथ-साथ पूजा पंडालों को भी अंतिम रूप दिया जा रहा है, ताकि जब श्रद्धालुओं के दर्शन के लिए प्रतिमाओं का गर्भगृह खोल दिया जाए तो लोगों को भव्य व ऐतिहासिक पूजा पंडालों का भी दर्शन हो सके.

खास बात यह कि गोपालगंज के बंजारी मोड़ स्थित न्यू राज दल के द्वारा इस बार अयोध्या के श्री राम मंदिर मॉडल की तर्ज पर दुर्गा पूजा का पंडाल बनाया जा रहा है. इसकी चर्चा गोपालगंज जिले के साथ-साथ आसपास के जिले में भी हो रही है. इस पूजा पंडाल को बनाने में 1200 बांस का इस्तेमाल किया जा रहा है. पंडाल की लंबाई 101 फीट और चौड़ाई 74 फुट है. पंडाल को बनाने में लगभग 25 लाख रुपए खर्च होने की अनुमान है. गोपालगंज में इस अनोखे और आकर्षक पंडाल का निर्माण कोलकाता से बुलाए गए 30 से ज्यादा कारीगरों की टीम पिछले डेढ़ महीने से कर रही है.

25 लाख रुपये का बन रहा पंडाल
पूजा समिति के कोषाध्यक्ष असर्फी प्रसाद बताते हैं गोपालगंज के दर्शकों को इस बार अयोध्या का श्रीराम मंदिर मॉडल के तर्ज पर पंडाल दिखेगा. पंडाल की लागत लगभग 25 लाख है. कोलकाता से आए हुए 30 से ज्यादा कारीगर डेढ़ महीने से दिन-रात एक कर पंडाल बना रहे हैं. डेकोरेशन और लाइट की भी विशेष व्यवस्था की जा रही है. साथ ही आने वाले सभी श्रद्धालुओं के लिए विशेष व्यवस्था की जा रही है.

हर वर्ष अलग होता है पूजा पंडाल
गोपालगंज के बंजारी मोड़ में न्यू राज दल के द्वारा पिछले 30 वर्षों से शारदीय नवरात्रि के दौरान मां दुर्गा की प्रतिमा और भव्य पंडाल का निर्माण कराया जाता है. खास बात यह है कि यहां प्रत्येक वर्ष पूजा समिति के द्वारा देश के विभिन्न राज्यों में स्थित सुप्रसिद्ध मंदिरों की तर्ज पर पंडाल का निर्माण कराया जाता है, जो आकर्षक का केंद्र बना रहता है.

यही कारण है कि यहां गोपालगंज के साथ-साथ सिवान, छपरा, बेतिया, मोतिहारी सहित उत्तर प्रदेश तक के श्रद्धालु भी नवरात्रि में घूमने के लिए आते हैं और मां दुर्गा की पूजा-अर्चना कर आशीर्वाद प्राप्त करते हैं.

Tags: Ayodhya Ram Temple, Bihar News, Bjp government, Durga Puja festival, Gopalganj news, Navratri Celebration



Source link

more recommended stories