डॉ. रामविलास दास वेदांती ने क्यों कहा लुलु मॉल पर लगे प्रतिबंध? जानें कारण


हाइलाइट्स

लुलु मॉल पर भड़के और राम मंदिर आंदोलन के अगवा रहे रामविलास दास वेदांती.
मॉल पर तत्काल प्रतिबंध लगाने की मांग.

अयोध्या. लुलु मॉल में नमाज पढ़े जाने का विरोध लगातार हो रहा है. अयोध्या के कई संतों ने इसका विरोध किया तो वहीं, अब भाजपा के पूर्व सांसद और राम मंदिर आंदोलन में मुख्य भूमिका निभाने वाले डॉ. रामविलास दास वेदांती ने भी मॉल में पढ़ी जाने वाली नमाज को लेकर के ऐतराज जताया है. उन्होंने शंका व्यक्त की है कि ऐसी दुकान और मॉल के जरिए आतंकी संगठन सांप्रदायिक दंगा फैलाने की साजिश कर रहे हैं.

मॉल में 75% मुस्लिम समाज के लोग तथा 25% हिंदू महिलाओं के काम करने पर भी प्रश्नचिन्ह उठाते हुए कहा कि यह आश्चर्य का विषय है. मॉल एक ऐसी जगह होती है, जहां पर हर वर्ग और संप्रदाय के लोग जाते हैं, वहां पर इस तरीके की भावना गलत है सरकार से मांग करते हुए डॉ. रामविलास वेदांती ने कहा कि ऐसे मॉल और दुकानों पर तत्काल प्रतिबंध लगाया जाना चाहिए.

सांप्रदायिक दंगा फैलाने की साजिश तो नहीं

लखनऊ में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस मॉल का फीता काटकर के प्रदेश को बड़ी सौगात दी थी. विवाद तब शुरू हुआ जब मॉल में कुछ लोगों के द्वारा नमाज पढ़ने का वीडियो वायरल हुआ. इसके बाद हिंदूवादी संगठनों ने ऐतराज किया तो हनुमानगढ़ी के महंत राजू दास ने भी इस पर प्रश्नचिन्ह उठाते हुए बड़ा बयान दिया कि अगर लुलु मॉल में मुस्लिम समाज के लोग नमाज पढ़ेंगे तो हम भी वहां पर जाकर हनुमान चालीसा का पाठ करेंगे.

मॉल पर प्रतिबंध लगाने की मांग

राम मंदिर न्यास के सदस्य रहे भाजपा के पूर्व सांसद डॉ. रामविलास वेदांती ने भी विरोध करते हुए मॉल पर प्रतिबंध लगाने की मांग की है. उनका कहना है कि मॉल और दुकानों के जरिए आतंकी संगठन सांप्रदायिक दंगा फैलाने की साजिश कर रहे हैं. भाजपा के फायर ब्रांड नेता वेदांती ने कहा कि प्रशासन को इस पर ध्यान रखना चाहिए और रोक लगाना चाहिए. मॉल में वर्ग विशेष के ही लोगों को रखा गया है, यह बड़े आश्चर्य की बात है. उनके अनुसार, कहीं आतंकवादियों का कोई ऐसा ग्रुप तो नहीं हावी हो रहा है, जिससे समाज देश और जनमानस को खतरा हो सकता है.

Tags: Ayodhya News, Uttar pradesh news



Source link

more recommended stories