भारत में आजादी को लेकर फ्रीडम हाउस की रिपोर्ट पर सरकार ने दी कड़ी प्रतिक्रिया, बताया- भ्रामक और गलत

सरकार ने शुक्रवार को फ्रीडम हाउस की उस रिपोर्ट को “भ्रामक, गलत और अनुचित” करार दिया, जिसमें भारत के दर्जे को घटाकर “आंशिक रूप से स्वतंत्र” कर दिया गया है और कहा कि देश में सभी नागरिकों के साथ बिना भेदभाव समान व्यवहार होता है और जोर दिया कि चर्चा, बहस और असहमति भारतीय लोकतंत्र का हिस्सा हैं.
सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने एक बयान में कहा, “फ्रीडम हाउस की ‘डेमोक्रेसी अंडर सीज’ शीर्षक वाली रिपोर्ट, जिसमें दावा किया गया है कि एक स्वतंत्र देश के रूप में भारत का दर्जा घटकर “आंशिक रूप से स्वतंत्र” रह गया है, पूरी तरह भ्रामक, गलत और अनुचित है.”