Ayodhya की गुलाबबाड़ी: शुजाउदौला ने जिंदा रहते बनवाया था यहां मकबरा, अयोध्या में खास है यह इमारत

Imambada Gulab Bari


हाइलाइट्स

अवध के तीसरे नवाब शुजाउदौला ने इस इमारत को बनवाया था.
इमारत के चारों तरफ गुलाबों की बागवानी की गई है.

रिपोर्ट: सर्वेश श्रीवास्तव

अयोध्या. उत्तर प्रदेश का फैजाबाद शहर किसी जमाने में अवध की राजधानी के रूप में मशहूर था, जिसको अब अयोध्या के नाम से जाना जाता है. भगवान राम के जन्म स्थान के नाते यह शहर पूरे विश्व में चर्चा का केंद्र रहता है. राम मंदिर के अलावा अयोध्या में ऐसे कई दार्शनिक स्थल हैं, जिनकी शोहरत पूरी दुनिया में है. हम बात कर रहे हैं ऐतिहासिक इमारत गुलाब बाड़ी यानी गुलाब का बाग. शिया वक्फ बोर्ड के पूर्व सदस्य अशफाक हुसैन के मुताबिक, अवध के तीसरे नवाब शुजाउदौला ने इस इमारत को हजारों वर्ष पूर्व बनवाया था. आज भी उनके वालिद की कब्र इस इमारत में है और इस इमारत की खास बात यह है कि शुजाउदौला ने अपने जिंदा रहते अपना खुद का मकबरा भी इसी इमारत में बनवाया था. शुजाउदौला के पिता नवाब सफदरजंग को पहली बार गुलाब बाड़ी में ही दफनाया गया था.

बागवानी करती है आकर्षित
गुलाब बाड़ी परिसर की खूबसूरती में यहां की बागवानी चार चांद लाती है. इमारत के चारों तरफ गुलाबों की बागवानी की गई है, जिसमें बेहद खूबसूरत अनेक प्रकार के गुलाब के पौधे लगाए गए हैं. इस बाग में लाल, गुलाबी, पीले, सफेद रंग के गुलाब खिलते हैं. जब यहां गुलाब के फूल खिलते हैं तो वह यहां आने वाले हर पर्यटक का दिल जीत लेते हैं.

स्थापित है अशोक स्तंभ
इस मकबरे के गेट पर विशालकाय अशोक स्तंभ स्थापित है. कहा जाता है कि यह देश का अकेला ऐसा मकबरा है, जहां पर भारत सरकार ने अशोक स्तंभ लगवाया था. इतना ही नहीं शुजाउद्दौला ने अयोध्या शहर को ‘गुलाब बाड़ी’, ‘बहू बेगम का मकबरा’, ‘मोती महल’ जैसी खूबसूरत इमारतों का भी तोहफा दिया है. वहीं, दूसरी ओर विशालकाय मकबरे की देखरेख ठीक ढंग से न होने के कारण यह मकबरा कई जगह से जर्जर हो रहा है.

रंग रोगन की आवश्यकता
पर्यटक अंशुमान तिवारी बताते हैं कि इस मकबरे में कोई रंग रोगन नहीं हो रहा है. सरकार एक ओर जहां अयोध्या का विकास कर रही है तो उसे इस परिसर को भी रंग रोगन किया जाना चाहिए. यहां हर धर्म के लोग आते हैं.

कहां स्थित है गुलाब बाड़ी

अयोध्या में खास पहचान रखती है गुलाबबाड़ी.

नीचे दिए गए लिंक से आप गुलाब बाड़ी पर आसानी से पहुंच सकते हैं
Imambada Gulab Barihttps://maps.app.goo.gl/iL19gdrsJT1cgjKy7

Tags: Ayodhya News, Historical monument



Source link

more recommended stories