Agnipath Protest: यूपी के 14 जिलों में 34 FIR दर्ज, 242 आरोपी गिरफ्तार, 145 का शांतिभंग में चालान


लखनऊ. सेना भर्ती के लिए केंद्र सरकार की नई स्कीम अग्निपथ को लेकर मचे बवाल और हिंसक प्रदर्शन के मामले में उत्तर प्रदेश के 14 जिलों में 34 एफआईआर दर्ज की गई है. अब तक इन मुकदमों के तहत 242 आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है, जबकि 145 आरोपियों का धारा 151 (शांतिभंग) के तहत चालान किया गया है. इस बीच सरकार की तरफ से लगातार युवाओं से शांति बनाए रखने और किसी के बहकावे में न आने की अपील की गई है. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ खुद कह चुके हैं कि यह योजना युवाओं के लिए एक अच्छा अवसर है.

उधर वाराणसी में भी 17 जून को हुई तोड़फोड़ और हिंसा में अब तक कुल 9 FIR दर्ज हो चुकी हैं. इतना ही नहीं 27 उपद्रवियों को गिरफ्तार कर जेल भेजा जा चुका है. इसके साथ ही 57 अन्य उपद्रवियों को चिन्हित किया जा चुका है. उनकी भी शीघ्र गिरफ्तारी की जाएगी. पुलिस प्रशासन द्वारा विरोध प्रदर्शन के दौरान सार्वजनिक सम्पत्तियों के नुकसान का भी आंकलन किया जा रहा है. इसकी क्षति पूर्ति की कार्यवाही ट्रिब्यूनल के माध्यम से कराया जायेगा. पुलिस प्रशासन ने सेना भर्ती के कोचिंग संचालकों को भी कड़े निर्देश दिए हैं. उन्हें कहा गया है अगर हिंसा हुई तो उनकी भी जिम्मेदारी तय की जायेगी. जिन उपद्रवियों के नाम आ गए हैं, उसकी संकलित सूची सेना भर्ती कार्यालय को प्रेषित किया जाएगा. उपद्रवियों को उकसाने वाले तत्वों की पहचान की जा रही है, उनके खिलाफ भी सख्त कार्यवाही होगी.

रेलवे को नुकसान पहुंचाने के मामले में 95 मुकदमे दर्ज 
इस बीच नार्थ सेंट्रल रेलवे के सीपीआरओ डॉ शिवम शर्मा ने बताया कि सेना की अग्निपथ भर्ती को लेकर विरोध प्रदर्शन के दौरान देश भर में भारतीय रेलवे को नुकसान पहुंचाने के मामले में अब तक 95 आपराधिक मुकदमे दर्ज किये गए हैं. देश भर में 207 आरोपियों को अब तक गिरफ्तार किया जा चुका है. अन्य आरोपियों की पहचान कर उन्हें गिरफ्तार करने की कोशिश की जा रही हैं. नार्थ सेंट्रल रेलवे में 11 केस दर्ज हुए हैं. आरपीएफ ने आठ, जीआरपी ने दो और सिविल पुलिस ने तीन मुकदमे दर्ज किए हैं. नार्थ सेंट्रल रेलवे में अब तक आरपीएफ ने कोई गिरफ्तारी नहीं की है. जबकि जीआरपी ने चार और सिविल पुलिस से 31 लोगों को गिरफ्तार किया है.

Tags: Agniveer, UP latest news



Source link

more recommended stories