आखिर ऐसा क्या हुआ कि बीजेपी के सांसद ने ही यूपी पुलिस को कह दिया ‘बंधुआ मजदूर’


गोंडा. जिले के छपिया थाना इलाके में 26 जून को गोलियों से छलनी करके महिला प्रधान के बेटे दुर्गेश सिंह की हत्या कर दी गई थी. अब इस मामले ने तूल पकड़ ली है. हालात ये हैं कि बीजेपी के सांसद ही यूपी पुलिस को कटघरे में खड़ा करते नजर आ रहे हैं. वहीं मृतक के भाई ने सत्तासीन बीजेपी विधायक पर आरोप लगाते हुए कहा कि उसी की शह पर दुर्गेश की हत्या की गई. पूरे मामले में गर्माहट उस समय देखने को मिली जब कैसरगंज से भाजपा सांसद बृजभूषण शरण सिंह ने हत्या के दिन ही सोशल मीडिया पर पोस्ट किया कि ये हत्या पुलिस की नाकामी का जीता जागता उदाहरण है, गोंडा आते ही 1 जुलाई को श्रद्धांजलि देने हजारों समर्थकों के साथ उनके घर जाऊंगा.

अब 1 जुलाई आते ही सांसद गोंडा पहुंचते ही अपने समर्थकों के साथ मृतक के घर पहुंचे और परिजनों से मुलाकात की. इस दौरान वे यूपी पुलिस पर जमकर बरसे और उसे बंधुआ मजदूर तक कह दिया. सांसद तांबेपुर गांव पहुंचे और उन्होंने खुद ही स्‍थानीय बीजेपी नेताओं पर आरोप लगा दिया. साथ ही कहा कि जब मृतक के भाई ने कहा कि उसकी हत्या की गई है तो प्रशासन को उसकी बात सुननी चाहिए थी, नहीं सुनी इसीलिए मुझे यहां पर आना पड़ा है. उन्होंने कहा कि ये हत्या राजनैतिक वर्चस्व के चलते हुई है. परिवार द्वारा नाम लेकर आरोप लगाने के बाद भी नामजद एफआईआर न होने पर सांसद ने कहा कि यहां की पुलिस बंधुआ मजदूर है, स्थानीय पुलिस विधायक और सांसद की बंधुआ मजदूर है.

बाहर से आए हैं ये लोग

विधायक और सांसद पर भी हमला बोलते हुए कहा कि ये दोनों लोग बाहर से आए हैं. ये 2014 तक दूसरी पार्टी में थे और जहां हम बैठे हैं यह परिवार भाजपा के साथ हमेशा था. सांसद ने पुलिस प्रशासन के साथ ही जिला प्रशासन को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि हमारे कमिश्नर साहब बैठे बैठे बड़ा मौज ले रहे हैं, हिलते ही नही हैं, खाली बैठे बैठे सैलरी ले रहे हैं. सांसद ने धमकी भरे लहजे में कहा कि तो जरा उनसे भी मुझे हिसाब किताब करना है. 15 दिन बाद सबसे हिसाब-किताब करूंगा. सांसद बृजभूषण शरण सिंह ने भाजपा के ही सांसद व विधायक का बिना नाम लेते हुए कहा कि भाजपा के प्रदेश नेतृत्व से और राष्ट्रीय नेतृत्व से मांग करता हूं कि एक कमेटी बनाकर के यहां देखें कि आपके ये विधायक लोग, आपके सांसद लोग जो अभी दूसरी पार्टी से आए हैं पुराने कार्यकर्ताओं के साथ क्या गुल खिला रहे हैं.

Tags: Gonda news, UP news



Source link

more recommended stories