आजमगढ़ उपचुनाव: बीजेपी के बाद अब उलेमा काउंसिल ने सपा को दिया जोर का झटका, बसपा प्रत्याशी गदगद


आजमगढ़. समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव के गढ़ आजमगढ़ में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के बाद अब राष्ट्रीय उलेमा काउंसिल ने समाजवादी पार्टी को जोर का झटका दिया है. राष्ट्रीय उलेमा काउंसिल ने यहां बसपा प्रत्याशी शाह आलम उर्फ गुड्डू जमाली को अपना समर्थन दे दिया है. वहीं आरयूसी का समर्थन मिलने के बाद बसपा प्रत्याशी ने दावा किया कि यह उनकी जीत का सर्टिफिकेट है. इसका कारण है कि आरयूसी का आजमगढ़ के सदर, मुबारकपुर और गोपालपुर विधानसभा सीट पर खासा प्रभाव है और यही कारण है कि बीते 2017 के विधानसभा चुनाव में आरयूसी के समर्थन से बसपा 4 सीट जीतने में कामयाब हुई थी. यह अलग बात है कि समाजवादी पार्टी इस समर्थन से बसपा प्रत्याशी को कोई फायदा नहीं होने का दावा कर रही है और अपनी जीत को लेकर पूरी तरह से आश्वस्त है.

आजमगढ़ जिले में लोकसभा उपचुनाव के लिए 23 जून को मतदान होना है, जिसे लेकर अब सभी राजनीतिक दलों ने अपनी पूरी ताकत झोंक दी है. एक तरफ जहां 2 दिन पूर्व सपा के संस्थापक सदस्य व पूर्व विधायक राम दर्शन यादव ने भाजपा का दामन थाम लिया था तो वहीं दूसरी तरफ सोमवार को राष्ट्रीय उलेमा काउंसिल ने बसपा प्रत्याशी गुड्डू जमाली को समर्थन का ऐलान कर दिया.

उलेमा काउंसिल के इस ऐलान के बाद सपा के एमवाई फैक्टर पर प्रभाव पड़ना तय माना जा रहा है. इसका कारण है कि आजमगढ़ की मुबारकपुर विधानसभा सीट पर राम दर्शन यादव का खासा प्रभाव है, वहीं सदर मुबारकपुर और गोपालपुर सीट पर उलेमा कौंसिल खासा प्रभाव रखती है. अपनी इस पकड़ का प्रमाण राष्ट्रीय उलेमा काउंसिल ने वर्ष 2017 के विधानसभा चुनाव में बसपा को समर्थन देकर साबित भी कर दिया है.

वहीं राष्ट्रीय उलेमा काउंसिल का समर्थन मिलने के बाद बसपा प्रत्याशी शाह आलम ने कहा, ‘यकीनन बहुत क्लियर शब्दों में कह रहा हूं कि यह जीत का सर्टिफिकेट है. विपक्ष के लोग पहले ही दिन से कन्फ्यूजन पैदा कर रहे थे. हमारे मुस्लिम भाइयों में जाते हैं तो कहते हैं दलित वोट नहीं दे रहा है तो उनको वोट देकर आप अपना वोट खराब क्यों कर रहे हैं. इनको लगता है कि यह इन लोगों की जागीर है जबकि हकीकत यह है कि यह चुनाव मै नहीं आजमगढ़ की सर्व समाज अपने सम्मान के लिए लड़ रही है.

वहीं समाजवादी पार्टी के कद्दावर नेता व पूर्व मंत्री रामआसरे विश्वकर्मा ने दावा किया है कि सपा प्रत्याशी धर्मेंद्र यादव को विजयी बनाने के लिए जितनी धर्मनिरपेक्ष पार्टी हैं, सभी ने समर्थन दे दिया है और प्रचार भी कर रही हैं. उन्होंने सभी दलों का नाम गिनाते हुए बताया कि राष्ट्रीय लोक दल, जनवादी पार्टी, सुहेलदेव पार्टी, कांग्रेस पार्टी का भी समर्थन समाजवादी पार्टी को है. भारतीय जनता पार्टी के खिलाफ जितनी भी पार्टियां हैं, सब समाजवादी पार्टी के पक्ष में है और समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी धर्मेंद्र यादव भारी मतों से विजयी होंगे.

दूसरी तरफ राष्ट्रीय उलेमा काउंसिल के प्रवक्ता तलहा रशादी ने कहा कि हम सब ने मिलकर यह फैसला किया है कि इस चुनाव में हम जनपद के लाल जिसने जनपद के लोगों की सेवाएं की है, उनके सुख-दुख में साथ दिया है उनका हम सपोर्ट करेंगे. यही नहीं यह जनपद की आवाम की मांग है कि गुड्डू जमाली जी को सपोर्ट किया जाए, क्योंकि उन्होंने खुद को साबित किया है. राष्ट्रीय उलेमा कौंसिल ने यह फैसला लिया है कि हर तरीके से शाह आलम गुड्डू जमाली जी की मदद की जाएगी. वहीं जो आजमगढ़ के लोगों में भ्रम फैलाने की कोशिश की जा रही थी. मुझे लगता है कि आज इस समर्थन के बाद यह भ्रम खत्म हो जाएगा.’

Tags: Azamgarh news, BSP, Samajwadi party



Source link

more recommended stories