आजमगढ़: मुस्लिम लड़की मोमिन और हिंदू प्रेमी सूरज की शादी में आया यह बड़ा ट्विस्ट, जानें क्या

azamgarh muslim girl tied with Hindu Youth Suraj


आजमगढ़: उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ में मुस्लिम लड़की और हिंदू लड़के की प्रेम कहानी का एपिसोड शादी के बाद भी जारी है. आजमगढ़ में बीते दिनों दो साल के प्यार को उसके मुकाम तक पहुंचाने के लिए मोमिन नाम की मुस्लिम लड़की ने धर्म बदलकर हिंदू प्रेमी सूरज से शादी रचा ली थी और धर्म की दीवार को तोड़ दिया था, मगर शादी के बाद भी इस प्रेमी जोड़े की तकलीफें कम नहीं हो रही हैं. इस नवदंपति मोमिन और सूरज को जान का खतरा सता रहा है. यही वजह है कि मोमिन से मीना बनीं मुस्लिम लड़की ने अपने प्रेमी से पति बने सूरज संग ससुराल छोड़ने का इतना बड़ा कदम उठा लिया है.

दरअलस, 13 जुलाई को अतरौलिया के सम्मो माता मंदिर में धर्म बदलकर कर शादी करने वालीं मोमिन खातून ने अपना ससुराल छोड़ दिया है. बताया जा रहा है कि मोमिन ने अपने पति सूरज संग ससुराल छोड़ एक रिश्तेदार के घर शरण ली है. माना जा रहा है कि इस कपल को शादी टूटने और जान का खतरा सता रहा है. मोमिन और सूरज दोनों शादी के अदालती दस्तावेज तैयार होने तक घर से दूर रहेंगे. अब ये दोनों कोर्ट मैरिज करेंगे और इसमें बड़ी बात यह है कि मोमिन की मां का रोल सूरज की बुआ निभाएंगी. इसकी वजह यह बताई जा रही है कि अब मायके वालों ने भी मोमिन का साथ छोड़ दिया है, इस वजह से सूरज की बुआ को  कोर्ट मैरिज के दौरान उनकी मां का रोल निभाना होगा.

बताया जा रहा है कि सूरज अभी अपनी पत्नी मोमिन संग बुआ के घर में रह रहे हैं. जब तक दोनों कोर्ट मैरिज नहीं कर लेते, तब तक मोमिन अपने ससुराल नहीं जाएंगी, क्योंकि उन्हें एक-दूसरे से अलग होने का खतरा सता रहा है. कोर्ट मैरिज में मोमिन की मां की भूमिका सूरज की बुआ निभाएंगी. बता दें कि इससे पहले भी यह नवविवाहित जोड़ा खतरे की आशंका जता चुका है. मोमिन ने अपने परिजनों और खास समुदाय के लोगों से पति और अपनी जान का खतरा बताया है.

13 जुलाई को मोमिन और सूरज ने शादी की थी.

बताया जा रहा है कि हिंदू धर्म अपनाने वाली मुस्लिम लड़की मोमिन खातून से मीना बनने के बाद अब नई पहचान बनाना चाहती है. सूत्र बताते हैं कि मीना की आईडी प्रूफ बनते ही दोनों नवदंपति कोर्ट में शादी रचाएंगे. पहले तो शादी के बाद खुद को सुरक्षित रखने के लिए सूरज और मीना अपने घर में कैद हो गए. उसके बाद जब डर और सताने लगा तो वे दोनों सूरज के बुआ के घर चले गए. बता दें कि यह पूरा मामला अतरौलिया थाना क्षेत्र के खानपुर फतेह गांव का है.

गौरतलब है कि मोमिन और सूरज के बीच दो साल पहले से प्यार चल रहा था. दोनों बीच-बीच में एक-दूसरे से मिलते थे और धर्म की दीवार तोड़ते हुए बीते 13 जुलाई को भगवान को साक्षी मानते हुए दोनों एक-दूसरे के हो गए. बहरहाल, विश्व हिंदू परिषद के जिला महामंत्री गौरव सिंह ने सुरक्षा की जिम्मेदारी ली है. मामला सामने आने के बाद विश्व हिंदू परिषद के जिला महामंत्री ने इस मामले में पुलिस अधीक्षक से मिलकर नव दंपति को सुरक्षा दिलाने की बात की है. फिलहाल, मामला पुलिस में दर्ज नहीं है.

Tags: Azamgarh news, Uttar pradesh news



Source link

more recommended stories